रेलवे ने वंदे भारत एक्सप्रेस का प्रस्तावित किराया घटाया, टिकटों पर नहीं मिलेगी कोई छूट

जनता से रिश्ता वेबडेस्क:-  बहुप्रतीक्षित सेमी हाईस्पीड ट्रेन 18 चार दिन बाद, यानी 15 फरवरी को शुरू हो जाएगी. रेलवे ने दिल्ली से वाराणसी के बीच चलने वाली इस ट्रेन के किराये का एक दिन पहले ही खुलासा किया था. रेलवे ने मंगलवार को वंदे भारत एक्सप्रेस या T18 के प्रस्तावित किराए को घटाने की घोषणा की. किराये को तर्कसंगत बनाते हुए रेलवे ने दिल्ली-वाराणसी सफर के लिए वातानुकूलित कुर्सीयान का किराया 1850 रुपये की जगह 1760 रुपये, जबकि एक्जीक्यूटिव श्रेणी का किराया 3520 रुपये की जगह 3310 रुपये करने की घोषणा की है. हालांकि, जल्द शुरू होने वाली वंदे भारत एक्सप्रेस में टिकटों पर किसी तरह की रियायत नहीं मिलेगी जैसा कि दूसरी ट्रेनों में वरिष्ठ नागरिकों को मिलती है. उन्हें वयस्क की तरह टिकट का पूरा किराया देना होगा.

रेलवे के एक आदेश में कहा गया है कि वापसी की यात्रा में कुर्सी यान के टिकट का किराया 1700 रुपये होगा और एक्जीक्यूटिव श्रेणी का किराया 3,260 रुपये पड़ेगा. दोनों किराये में कैटरिंग का शुल्क भी शामिल है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 15 फरवरी को दिल्ली से ट्रेन को हरी झंडी दिखाएंगे. यात्री 17 फरवरी से ट्रेन में सफर कर पाएंगे.यह ट्रेन सुबह 6 बजे दिल्ली से रवाना होगी और दोपहर 2 बजे वाराणसी पहुंचेगी. वापसी में यह ट्रेन दोपहर 3 बजे रवाना होगी और रात में 11 बजे दिल्ली पहुंचेगी. आदेश में कहा गया है कि सोमवार और गुरुवार को छोड़कर ट्रेन सप्ताह में हर दिन चलेगी.सूत्रों ने बताया कि शताब्दी एक्सप्रेस की तुलना में खासकर कुर्सीयान के टिकट का किराया ज्यादा होने के कारण रेलवे ने किराया घटाने का फैसला किया है. अभी चेयर कार का किराया उतनी ही दूरी तय करने वाली शताब्दी ट्रेनों के किराये से 1.4 गुणा अधिक है और एक्जीक्यूटिव क्लास का किराया प्रीमियम ट्रेन में वातानुकूलित प्रथम श्रेणी के किराए से 1.3 गुणा अधिक है. नई दिल्ली से वाराणसी तक एक्जीक्यूटिव श्रेणी में यात्रा करने वाले यात्रियों को सुबह की चाय, नाश्ते और भोजन के लिए 399 रुपये देने पड़ेंगे, जबकि कुर्सीयान के यात्रियों को 344 रुपये लगेंगे.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here