रेकिट बेनकाइजर के टॉप बॉस बनेंगे लक्ष्मण नरसिम्हन

भारत में नरसिम्हन के दोस्तों ने बताया कि उनकी फुटबॉल और टेनिस खेलने में दिलचस्पी थी। उन्हें कविता और संगीत का भी शौक है। बजाज ऑटो के मैनेजिंग डायरेक्टर राजीव बजाज ने पुणे के सेंट विंसेंट स्कूल में नरसिम्हन के साथ पढ़ते थे। वह कॉलेज ऑफ इंजिनियरिंग में भी उनके साथ थे। बजाज ने कहा, ‘नरसिम्हन प्रतिभाशाली छात्र थे। वह अच्छे स्पोर्ट्समैन और समझदार दोस्त थे। इन सबसे बड़ी बात यह है कि वह महत्वाकांक्षी थे।’ बजाज ने यह भी कहा कि यह काफी पहले पता चल गया था कि वह दुनिया में अपनी पहचान बनाएंगे। हमें उन पर गर्व है। यह काम उन्होंने मुश्किल घड़ी में हमेशा मुस्कुराने के अपने ट्रेडमार्क के साथ किया है। जब सिनक्लेयर से यह पूछा गया कि क्या निवर्तमान सीईओ भारतीय थे, कहीं इसी वजह से तो उनका उत्तराधिकारी भी भारतीय तो नहीं है? इस पर उन्होंने कहा कि कंपनी ने सेलेक्शन प्रोसेस में कहीं भी इस पर गौर नहीं किया। उन्होंने यह भी कहा, ‘हालांकि, मेरा निजी अनुभव भारतीय सीईओ को लेकर अच्छा रहा है।’

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here