यहां है ‘मौत की कुर्सी’, इसपर बैठने वाला नहीं बचता जिंदा