बिस्कोहर में 20 सेक्स वर्कर्स ने छोड़ा देह व्यापार, अपनी सैलरी से शादी कराएंगे SDM

जनता से रिश्ता वेबडेस्क :-गोरखपुर :  देह व्यापार के लिए मुंबई तक बदनाम सिद्धार्थनगर जनपद के बिस्कोहर गांव की गणिकाओं (सेक्स वर्कर्स) ने इस काम को छोड़ने का संकल्प लिया है। एसडीएम की कोशिशों के बाद इन गणिकाओं ने देह व्यापार से तौबा कर ली है और शपथ ली है कि वे समाज की मुख्यधारा से जुड़ेंगी। घर बसाने के लिए एसडीएम ने भी दिल बड़ा करते हुए ऐलान किया है कि वह अपनी तनख्वाह से उनकी शादियां कराएंगे।दरअसल, बिस्कोहर गांव अंग्रेजों के जमाने से ही देह व्यापार के लिए चर्चित है। एक तरह से यहां की प्रथा है कि लड़की पैदा हुई तो वह देह व्यापार में ही उतरेगी। शादी होने के बाद भी ये महिलाएं इस व्यापार में लिप्त रहती हैं। एसडीएम इटवा का पद संभालने के बाद से ही ध्रुव कुमार बिस्कोहर से इस कारोबार को बंद कराने की कोशिश में जुटे थे। लगातार काउंसलिंग करने का नतीजा शुक्रवार को सामने आया। दोपहर में 20 गणिकाएं परिवार संग सार्वजनिक तौर पर जुटीं और वहीं पर शपथ ली कि वे अब इस व्यापार से तौबा करती हैं। इन गणिकाओं ने ऐलान किया कि गरीबी में जी लेंगे लेकिन देह व्यापार में नहीं कूदेंगे। इस गांव में करीब 20 गणिकाएं हैं। इधर शपथ ली गई, उधर एसडीएम ने इस टोले को गोद लेने और परिवार में करीब 12 लड़कियों की शादी अपनी तनख्वाह से कराने का ऐलान कर दिया। एसडीएम ने इस कार्यक्रम में इलाके के लोगों को भी बुला लिया था। सबने इन गणिकाओं की मदद करने और मुख्यधारा से जोड़ने का संकल्प लिया है।

‘देह व्यापार त्यागने वालों की पूरी मदद करेंगे’

एसडीएम इटवा ध्रुव कुमार ने कहा है कि उनकी कोशिश कामयाब रही है। अब वह कोशिश करेंगे कि उनकी सहायता कर उन्हें समाज की मुख्यधारा से जोड़ा जाए। शुक्रवार को ‘एनबीटी’ से बातचीत करते हुए एसडीएम ने कहा, ‘राशन और शिक्षा दिलाने के साथ-साथ इनकी शादी कराने में भी मदद की जाएगी। मेरा सौभाग्य है कि अरसे से चले आ रहे इस कलंक को खत्म कराने में मैं कामयाब हुआ।’

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here