बाराना डेम के सभी 8 गेट खुलने से गांवों में बाढ़ जैसे हालात और जबलपुर सहित भोपाल का टूटा संपर्क

जनता से रिश्ता वेबडेस्क :-   रायसेन: जिले में लगातार मूसलाधार बारिश के बाद लगातार बढ़ते जल स्तर को देखते हुए बाराना डेम के सभी 8 गेट खोल दिए गए हैं। डेम के गेट खुलने से जिले के निचले इलाकों में बसे गांवों में बाढ़ जैसे हालात बन गए हैं। हालात ऐसे हैं कि सुल्तानपुर ढ़ोंगा, होली चौक, नदी रोड इलाके के घरों में नदियों का पानी घरों घुस आया है। वहीं, डेम का पानी छोड़े जाने से जबलपुर-भोपाल का संपर्क टूट गया है। बताया जा रहा है कि एनएच 12 पर बने वारना पुल पर 20 फीट पानी बह रहा है। हालात को देखते हुए प्रशासन ने लोगों से घरों को खावली करने का निर्देश जारी किया है। बता दें कि पहले डेम के 4 ही गेट खोले गए थे, लेकिन लगातार बारिश के चलते बढ़ते जल स्तर को देखते हुए बाकी बचे 4 गेटों को खोला गया है।वहीं, दूसरी ओर मौसम विभाग ने एक बार फिर प्रदेश के कई हिस्सों में भारी बारिश की चेतावनी जारी की है। मौसम विभाग ने 3 दिन पहले पांच दिन तक बारिश के लिए अलर्ट जारी किया था। इसमें रायसेन जिले में भी भारी बारिश की चेतावनी दी गई थी। शनिवार-रविवार की देर रात मौसम एक बार फिर गरज चमक के बीच घंटों भारी बारिश होती रही, जिससे रायसेन शहर में पापी-पानी हो गया था।जलसंसाधन विभाग से मिली जानकारी के अनुसार बांध में प्रति घंटे एक लाख क्यूसिक मीटर पानी आ रहा है। जिसे खतरे के निशान से नीचे बनाए रखने के लिए आठों गेट खोलकर 28674 क्यूसिक प्रति मिनट की गति से पानी निकाला जा रहा है।