न्यूजीलैंड ने उठाए ये सख्त कदम पर्यावरण की सुरक्षा के लिए

जनता से रिश्ता वेबडेस्क : वेलिंगटन: न्यूजीलैंड ने शुक्रवार को ऐलान किया कि वह स्वच्छ व हरित देश की अपनी प्रतिष्ठा और पर्यावरण की रक्षा के लिए अगले वर्ष तक प्लास्टिक शॉपिंग बैग को समाप्त कर देगा.  ‘एफे’ ने सरकारी बयान के हवाले से बताया, “न्यूजीलैंड में हर साल हम लाखों एक बार उपयोग में आने वाले प्लास्टिक बैग का उपयोग करते हैं जिनमें से कई प्रकार की प्लास्टिक हमारे बहुमूल्य तटीय और समुद्री वातावरण को प्रदूषित करती है और सभी प्रकार के समुद्री जीवन को गंभीर नुकसान पहुंचाती है . ” रिपोर्ट के अनुसार, प्रधानमंत्री जेसिंडा अर्डन और सहायक पर्यावरण मंत्री यूगेनी सागे ने यह उपाय प्लास्टिक बैग पर प्रतिबंध लगाने के लिए न्यूजीलैंड के 65000 नागरिकों की अर्जी के जवाब में उठाया है.

जैसिंडा ने कहा कि नीति धीरे-धीरे लागू की जाएगी ताकि न्यूजीलैंड के लोग परिवर्तन के आदी हो सकें. सागे ने कहा कि दुनिया भर के कई देशों ने प्लास्टिक प्रदूषण पर सफलतापूर्वक कार्रवाई की है. उन्होंने प्लास्टि बैग को चलन से हटाने के लिए छह महीने की अवधि का प्रस्ताव दिया है.

न्यूजीलैंड ने ऑस्ट्रेलिया से अपना ध्वज बदलने को कहा, जानिए क्या है वजह
न्यूजीलैंड के कार्यवाहक प्रधानमंत्री विंस्टन पीटर्स ने अपने पड़ोसी देश ऑस्ट्रेलिया से अपना ध्वज बदलने का अनुरोध किया. उन्होंने कहा कि दोनों देशों के ध्वज में समानता के कारण भ्रम पैदा होता है. पीटर्स ने संवाददाताओं से कहा, ‘‘ हमने इसका डिजाइन तैयार किया और उन्होंने इसे अपना लिया. अगर हम मामला सुलझाना चाहते हैं तो उन्हें अपना ध्वज बदलना चाहिए.’’ उन्होंने कहा, ‘‘यह स्पष्ट होना चाहिए क्योंकि दुनिया भर में लोग भ्रम में पड़ जाते हैं.

मैं तुर्की और कुछ अन्य जगहों पर था जहां वे लोग ध्वज को लेकर भ्रमित थे.’’ न्यूजीलैंड और ऑस्ट्रेलिया का ध्वज गहरे नीले रंग का है और ऊपर कोने में पूर्व औपनिवेशिक ताकत ब्रिटेन का यूनियन जैक या ध्वज का प्रतीक है.  अंतर बस इतना है कि ऑस्ट्रेलियाई ध्वज में छह सफेद तारे हैं जबकि न्यूजीलैंड के ध्वज में चार लाल तारे हैं.  प्रधानमंत्री जेसिंडा अर्डर्न अभी मातृत्व अवकाश पर हैं ऐसे में पीटर्स देश का नेतृत्व कर रहे हैं.

न्यूजीलैंड की PM ने अपनी बेटी का नाम रखा ‘नेवे’, जानें क्या है मतलब
न्यूजीलैंड की प्रधानमंत्री जेसिंडा अर्डर्न ने अपनी बेटी का नाम नेवे रखा है. बेटी के जन्म के बाद प्रधानमंत्री को अस्पताल से रविवार( 24 जून) को छुट्टी मिल गई. प्रधानमंत्री को उम्मीद है एक समय ऐसा भी आएगा जब पदभार संभाल रही महिला का बच्चे को जन्म देना कोई अद्भुत बात नहीं रहेगी. गुरुवार को अपनी बच्ची को जन्म देने के बाद से पहली बार सार्वजनिक तौर पर बात करते हुए प्रधानमंत्री ने कहा कि उन्होंने और उनके पति क्लार्क गेफोर्ड ने बच्ची का नाम नेवे टी अरोहा आर्डर्न गेफोर्ड रखा है. यह दंपति की पहली संतान है. प्रधानमंत्री ने बताया कि नेवे का मतलब चमकीला और बर्फ होता है. आर्डर्न दुनिया की ऐसी दूसरी प्रधानमंत्री हैं जो पद पर रहते हुए मां बनी हैं.

बेनजीर भुट्टो के बाद पीएम रहते मां बनने वाली दूसरी नेता
न्यूजीलैंड की प्रधानमंत्री जेसिंडा आर्डर्न  गुरुवार को मां बनीं. उन्होंने एक बच्ची की जन्म दिया है. पूरी दुनिया में पिछले 30 साल में ऐसा पहली बार हुआ है, जब किसी देश का कोई मुखिया मां या पिता बना हो. उन्होंने इसकी घोषणा अपने इंस्टाग्राम अकाउंट पर की थी. उन्होंने कहा, उनकी बेटी का जन्म न्यूजीलैंड के स्थनीय समयानुसार शाम 4.45 बजे हुआ. जन्म के वक्त उसका वजन 3.31 किग्रा था. अपनी पोस्ट में न्यूजीलैंड की प्रधानमंत्री ने अपने शुभचिंतकों को लिखा, आपकी शुभकामनाओं के लिए धन्यवाद.