नासा ने पहली बार प्रायोगिक तौर पर ध्वनि से तेज सुपरसोनिक विमान विकसित किया

जनता से रिश्ता वेबडेस्क :- वाशिंगटन,: नासा ने कान फोडू ‘सोनिक बूम’ आवाज किए बगैर ध्वनि से भी तेज गति से उड़ने वाले विमान विकसित करने की कोशिश के तहत दो सुपरसोनिक विमानों से ‘शॉकवेव’ की महत्वपूर्ण तस्वीरें ली हैं। अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी ने यह जानकारी दी। गौरतलब है कि ‘शॉक वेव’ वायु के दबाव में तेजी से होने वाले बदलाव हैं जो किसी विमान के ध्वनि से भी तेज गति से उड़ने के दौरान पैदा होते हैं। वहीं ‘सोनिक बूम’ ऐसा कोई विमान या कोई अन्य वस्तु पैदा करती है जो ध्वनि के बराबर या इससे तेज गति से उड़ता है और उसकी तेज आवाज जमीन पर बादलों के गरजने की आवाज जैसी सुनाई देती है। अमेरिका में स्थित नासा के आर्मस्ट्रॉंग फ्लाइट रिसर्च सेंटर में किए गए एक प्रयोग के दौरान यह तस्वीरें ली गई। नासा ने एक बयान में कहा कि उड़ानों के दौरान ‘शॉकवेव’ की अत्यधिक गुणवत्ता वाली तस्वीरें लेने में सक्षम अपग्रेडेड इमेजिंग प्रणाली की जांच सफल पाई गई। अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी के एमेस रिसर्च सेंटर के फिजिकल वैज्ञानिक जेटी हेनेक ने कहा कि इस अपग्रेडेड प्रणाली के जरिए हमने पिछले शोध की तुलना में बेहतर नतीजे प्राप्त किए। इस प्रणाली का उपयोग एजेंसी के एक्स – 59 क्वाइट सुपरसोनिक टेक्नोलॉजी एक्स – विमान की डिजाइन की पुष्टि करने के लिए महत्वपूर्ण डाटा लेने में किया जाएगा। यह विमान ध्वनि से भी तेज गति से उड़ेगा लेकिन उड़ान के दौरान बहुत कम आवाज सुनाई देगी। अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी ने कहा कि बगैर ‘सोनिक बूम’ के सुपरसोनिक विमान उड़ाने की क्षमता एक दिन भूक्षेत्र (मानव बस्ती) के ऊपर से सुपरसोनिक विमानों के गुजरने पर लगे मौजूदा प्रतिबंध को हटाने में मददगार साबित होगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here