नासा ने ध्यानमग्न योगी वाला खोजा खगोलीय पिंड

जनता से रिश्ता वेबडेस्क: नई दिल्ली :  नासा ने यह तस्वीर जारी की है जो अंतरिक्ष में मौजूद खगोलीय पिंड की है। नासा के मुताबिक यह सबसे ज्यादा दूरी वाला पिंड है, जिसकी तस्वीर लेना मुमकिन हो पाया है। इसकी आकृति ध्यान में बैठे किसी इंसान की तरह है। यह प्लूटो से भी अरबों मील दूर है और इसे अल्टिमा थुले नाम दिया गया है। यह तस्वीर नासा के यान न्यू होराइजन्स से ली गई है। अल्टिमा थुले की पृथ्वी से दूरी 6.4 किलोमीटर है। दरअसल इसे दो भागों में बांटा गया है। बड़ा हिस्सा जो काफी हद तक समतल भी है, इसे अल्टिमा का नाम दिया गया है और इससे जुड़े गोल आकार के भाग को थुले कहा गया है। ये दोनों जहां जुड़ते हैं उसे ‘नेक’ नाम दिया गया। 17 मई को पब्लिश साइंस जर्नल में इसे ‘2014 MU69’ का नाम दिया गया है। इसकी आकृति एकदम ध्यान में बैठे इंसान की तरह है। माना जाता है कि ग्रहों के निर्माण के समय ही यह भी अस्तित्व में आया। नासा का न्यू होराइजन यान पृथ्वी से 6.6 अरब किलोमीटर दूर है और यह कूइपर बेल्ट में तेजी से प्रवेश कर रहा है। इसकी गति लगभग 53,000 किलोमीटर प्रति घंटा है। न्यू होराइजन से अल्टिमा थुले की तस्वीर ली जा सकी। इस पिंड की सतह लाल है, अनुमान है कि यहां ज्वालामुखी भी होगा। इसका आकार भी प्लूटो से काफी बड़ा है। अल्टिमा थुले की सतह पर वैज्ञानिकों को मेथेनॉल और वॉटर आइस के अंश मिले हैं। हालांकि यहां की बर्फ थोड़ी अलग है। वैज्ञानिकों के मुताबिक अल्टिमा थुले की सतह आग की तरह लाल है और इस वजह से कहा जा सकता है कि यहां जागृत ज्वालामुखी भी हैं। इसके अलावा इसकी सतह पर ऐसे गड्ढे हैं जो अकसर विस्फोट से बनते हैं। अनुमान यह भी है कि ये गड्ढे किसी बड़े पिंड के टकराने की वजह से बन गए हैं। नासा द्वारा जारी यह तस्वीर जनवरी की शुरुआत में ली गई थी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here