नाडा ने योग्य चिकित्सकों को रखने की BCCI की मांग कर ली स्वीकार

जनता से रिश्ता वेबडेस्क :- नई दिल्ली। राष्ट्रीय डोपिंग रोधी एजेंसी (नाडा) बेंगलुरु में दलीप ट्रॉफी के अगले मैच के दौरान बीसीसीआइ से पंजीकृत खिलाडि़यों का परीक्षण शुरू कर देगा। नाडा ने प्रमुख डोप नियंत्रण अधिकारियों (डीसीओ) के रूप में योग्य चिकित्सकों को रखने की बीसीसीआइ की मांग स्वीकार कर ली है।हाल में बीसीसीआइ के महाप्रबंधक (क्रिकेट परिचालन) सबा करीम और डोपिंग रोधी इकाई के प्रमुख डॉ.अभिजीत साल्वी ने नाडा के सीनियर अधिकारियों से आगे की रणनीति पर चर्चा के लिए मुलाकात की, जिसमें महानिदेशक नवीन अग्रवाल शामिल थे। नाडा ने बैठक के बाद कहा, ‘हम यह भागीदारी जल्द से जल्द दलीप ट्रॉफी से ही शुरू करने की उम्मीद कर रहे हैं।’नाडा हालांकि बेंगलुरु में इंडिया ब्लू और इंडिया ग्रीन टीमों के बीच चल रहे शुरुआती मैच में किसी खिलाड़ी की जांच नहीं करेगी। हालांकि, ऐसी संभावना है कि कुछ परीक्षण 23 अगस्त से शुरू होने वाले अगले मैच में किए जाएं। बीसीसीआइ ने सत्र के घरेलू मैचों के पूर्ण कार्यक्रम की सूची सौंप दी है जिसमें तारीख और स्थल शामिल हैं, ताकि नाडा अपने परीक्षण के लिए क्रिकेट कार्यक्रम तैयार कर सके।

साल्वी ने कहा, ‘दिलीप ट्रॉफी पहले ही शुरू हो चुकी है और शायद वे आगे के मैचों के लिए आएं। उन्होंने इसका जिक्र नहीं किया है कि वे किस तरह का परीक्षण (औचक या निर्धारित समय पर) करेंगे। उम्मीद है कि वे मैच के दिनों (टूर्नामेंट के दौरान) में कुछ परीक्षण करेंगे।’बीसीसीआइ के डोपिंग रोधी अधिकारी ने उच्च मानक सुनिश्चित करने के लिए ‘अतिरिक्त भुगतान’ की बात पर कहा, ‘हमारी मुख्य चिंता डोप नियंत्रण अधिकारियों की योग्यता पर और मामलों के निपटारे के लिए लिया जाने वाला समय थी। नाडा ने हमें दोनों के बारे में आश्वस्त किया है। हमने अनुरोध किया था कि बीसीसीआइ के लिए जो डोप नियंत्रण अधिकारी नियुक्त किए जाएं, वे मान्यता प्राप्त चिकित्सक (एमबीबीएस) हों जिन्हें डोपिंग के संबंध में जानकारी हो।’ डीसीओ अगर डॉक्टर होगा तो इसमें अतिरिक्त भुगतान होगा और बीसीसीआइ इसका भुगतान करेगा, जो मुख्य कार्यकारी अधिकारी राहुल जौहरी ने स्पष्ट कर दिया है।