देश का इकलौता ऐसा मंदिर जो बना है 7 बहनों के नाम पर, जानें कौन थी ये बहनें और कहाँ से आई

Hits: 25

जनता से रिश्ता वेबडेसक :- आप सभी लोगों ने अब तक देवी-देवताओं के मंदिरों के बारे में तो काफी कुछ सुना होगा, लेकिन आप लोगों ने कभी भी बींझबायला में सात बहनों के नाम से बने मंदिर के बारे में नहीं सुना होगा. बीकानेर संभाग में संभवत यह इकलौता मंदिर है जो कि बहनों के नाम से बना है. आखिर ये बहनें कौन थी और आई कहां से, इस बात को लेकर कई बंदतियाँ है. लेकिन यह बात तो पूरी तरह से तय है कि ये बहनें सरदार शहर के गांव बायला से करीब 172 साल पहले आई थी. यहां पर उनके 2 मंदिर बने हैं, उजळी और सांवळी बायां.

एक बुजुर्ग हरिराम गोदारा ने बताया कि इस गांव की स्थापना वैशाख सुदी शुल्क सप्तमी के दिन हुई थी. अब से करीब 172 साल पहले संभवत 1903 में उनके दादा यहां पर आए थे. फिर इसी परिवार ने यहीं पर अपना गांव बसा लिया. वहीं गोदारा जी ने बताया कि यह बहनें सरदारशहर से सिला लेकर चली थी. सूर्योदय से पहले सिला यही गिर गई तो यह बहनें भी यहीं ठहर गई. उसी वक्त से यहां पूजा होती है.यहां पर देशभर से श्रद्धालु आते हैं. यहां हर माह शुल्क पक्ष में धोक लगती है. बारस से पूर्णिमा तक मेला लगता है. इस मंदिर के पीछे बने हुए कुए के शिलालेख आज भी गांव के बीरबल मेघवाल कि घर में मौजूद है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here