दुर्ग संभाग में भी भाजपा को करारी शिकस्त मिली

जनता से रिश्ता वेबडेस्क
संभाग की 20 में सिर्फ तीन सीट जीतने में सफल रही
जसेरि रिपोर्टर
भिलाई। मतगणना के बाद स्थिति स्पष्ट हो गई है। प्रदेश के अन्य क्षेत्रों की तरह दुर्ग संभाग में भी भाजपा को करारी शिकस्त मिली है। संभाग की 20 सीटों में सिर्फ तीन सीट जीतने में सफल रही है। बाकी सभी सीटों पर कांग्रेस ने कब्जा कर लिया है। इस चुनाव में कांग्रेस ने परिवर्तन का नारा सफल रहा। भाजपा ने अपने विकास पर भरोसा जताया था, पर जनता ने उसे नकार दिया।
संभाग की 20 सीटों के नतीजे आ चुके हैं। 17 में कांग्रेस, 2 में भाजपा और एक सीट पर छजकां को जीत मिली है। यहां 2013 की तुलना में कांग्रेस को जहां 8 सीटों का फायदा हुआ है वहीं भाजपा को नुकसान उठाना पड़ा है। मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह को स्वयं कड़ी टक्कर का सामना करना पड़ा।वे अपनी राजनांदगांव सीट पर 30 हजार से अधिक वोट से जीत के अंतर को कायम नहीं रख सके।संभाग के दोनों मंत्री प्रेमप्रकाश पांडेय और दयालदास बघेल चुनाव हार गए हैं।
संघर्षपूर्ण मुकाबला-भिलाई नगर, वैशली नगर और खैरागढ़ को छोड़ बाकी 17 सीटों पर शुरुआत से ही कांग्रेस ने बढ़त बनाए रखी।खैरागढ़ में जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ के देवव्रत सिंह आगे चल रहे थे, लेकिन बीच में भाजपा के कोमल जंघेल से पिछड़ गए। अंतिम दौर में उनको जीत मिली। यहां कांग्रेस के गिरवर जंघेल तीसरे नंबर पर चले गए। भिलाईनगर में पहले राउंड की गिनती में पांडेय आगे थे, लेकिन इसके बाद हर चक्र में कांग्रेस के देवेंद्र यादव और पांडेय के बीच संघर्षपूर्ण मुकाबला होता रहा।
जनता ने भाजपा को नकारा-आखिर में देवेंद्र ने जीत दर्ज की। इस बार कांग्रेस ने 10 नए चेहरों को मौका दिया था और सभी विजयी हुए। वहीं भाजपा ने 5 नए प्रत्याशी उतारे और सभी हार गए। पांच वर्तमान विधायकों को भी पराजय का सामना करना पड़ा है। ना केवल शहरी सीटों बल्कि ग्रामीण क्षेत्रों में भी जनता ने भाजपा को नकार दिया। यहां भाजपा के विकास पर कांग्रेस के परिवर्तन का नारा भारी पड़ा।
दुर्ग एक मात्र भसीन जीते-2013 में यह भाजपा के पास चार और कांग्रेस दो सीटें थीं। कांग्रेस ने भिलाई नगर, दुर्ग ग्रामीण और अहिवारा की सीट भाजपा से छीन ली है। एक मात्र वैशाली नगर से विद्यारतन भसीन की दोबारा जीत हुई है। कद्दावर मंत्री प्रेम प्रकाश पांडेय और कांग्रेस से बीडी कुरैशी चुनाव हार गए हैं। देवेंद्र यादव और गुरु रुद्र कुमार युवा विधायक
बालोद फिर कांग्रेस का कब्जा-एक बार फिर जिले की जनता ने कांग्रेस पर भरोसा जताया है। विधायक भैयाराम सिन्हा की पत्नी संगीता सिन्हा और गुंडरदेही से कुवंर सिंह निषाद नये चेहरे हैं। डौंडीलोहारा से अनिला भेडि?ा दूसरी बार चुनाव जीती हैं। दीपक साहू और पूर्व विधायक लाल महेन्द्र सिंह हार गए हैं।
बेमेतरा मेंं भाजपा का पत्ता साफ-कांग्रेस ने यहां की तीनों सीटे भाजपा से अपने नाम कर ली है। रविंद्र चौबे ने अपनी परंपरागत सीट साजा हथिया ली है। उन्होंने लाभचंद बाफना को हराया। नवागढ़ में मंत्री दयालदास बघेल नए चेहरे गुरु दयाल बंजारे से पराजित हो गए। बेमेतरा में कांगे्रस के आशीष छावड़ा ने विधायक अवधेश चंदेल को हराया।
राजनांदगांव सीएम मुश्किल से जीते-इस बार भी भाजपा एक ही सीट जीत सकी है। राजनांदगांव से स्वयं मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह को कड़ी टक्कर मिली। वह 16933 वोटों से ही अपनी सीट बचा पाए। खैरागढ़ से त्रिकोणीय मुकाबले में पूर्व विधायक कोमल जंघेल जोगी कांग्रेसके देवव्रत से हार गए।
कवर्धा दोनों सीटों पर अब कांग्रेस-2013 में मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह के गृह जिले की दोनों सीटें कवर्धा और पंडरिया भाजपा के पास थी। अब कांग्र्रेस के खाते में चली गई है। पूर्व मंत्री मोहम्मद अकबर अशोक साहू को हराकर चौथी बार विधायक चुन लिए गए हैं। वहीं पंडरिया में ममता चंद्रकर ने संसदीय सचिव मोतीराम चंद्रवंशी को पराजित कर दिया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here