दुनिया के 5 देश हैं जो 15 अगस्त को आजादी का जश्न मनाते हैं.देखे फोटो

जनता से रिश्ता वेबडेस्क :-  15 अगस्त को देश अपनी आजादी की 73वीं सालगिरह मनाएगा. लेकिन 15 अगस्त को आजादी का जश्न मनाने वाले हम अकेले नहीं हैं. दुनिया के 5 देश और भी हैं, जो हमारे साथ 15 अगस्त को आजादी का जश्न मनाते हैं..दो दिन बाद देश अपनी आजादी की 73वीं सालगिरह मना रहा होगा. पूरे देश में जश्न का माहौल होगा. अंग्रेजों की 200 साल की गुलामी से आजाद हुए हमें 72 साल पूरे हो जाएंगे. इस मौके पर पूरे देश में कार्यक्रम होंगे. लेकिन क्या जश्न मनाने वाले सिर्फ हमीं होंगे।भारत के अलावा भी ऐसे 5 देश हैं, जो 15 अगस्त को आजादी का जश्न मनाते हैं. भारत की तरह इन पांचों देशों को आजादी भी 15 अगस्त को हासिल हुई थी. आप शायद नहीं जानते हों कि भारत के साथ साउथ कोरिया, नॉर्थ कोरिया, कांगो, बहरीन और लिकटेंस्टीन ने 15 अगस्त को आजादी हासिल की थी.साउथ कोरिया 15 अगस्त को अपना स्वतंत्रता दिवस मनाता है. 15 अगस्त 1945 को साउथ कोरिया ने जापान से आजादी हासिल की थी. यूएस और सोवियत फोर्सेज ने कोरिया को जापान के कब्जे से बाहर निकाला था. इस दिन साउथ कोरिया के लोग नेशनल हॉलीडे के तौर पर मनाते हैं.साउथ कोरिया की तरह नॉर्थ कोरिया भी 15 अगस्त को स्वतंत्रता दिवस के तौर पर मनाता है. दोनों देश 15 अगस्त 1945 को जापान के कब्जे से मुक्त हुए थे. नॉर्थ कोरिया 15 अगस्त को नेशनल हॉलीडे के तौर पर मनाता है. छुट्टी का दिन होने की वजह से इसी दिन यहां शादी करने की परंपरा चल पड़ी है.15 अगस्त को ही बहरीन ने आजादी हासिल की थी. 15 अगस्त 1971 को बहरीन ने ब्रिटेन से आजादी हासिल की थी. हालांकि ब्रिटिश फौजें 1960 के दशक से ही बहरीन को छोड़ने लगी थी. 15 अगस्त को बहरीन और ब्रिटेन के बीच एक ट्रीटी हुई थी, जिसके बाद बहरीन ने आजाद देश के तौर पर ब्रिटेन के साथ अपने संबंध रखे. हालांकि बहरीन अपना नेशनल हॉलीडे 16 दिसंबर को मनाता है. इस दिन बहरीन के शासक इसा बिन सलमान अल खलीफा ने बहरीन की गद्दी हासिल की थी.कॉन्गो ने 15 अगस्त को आजादी हासिल की थी. 15 अगस्त 1960 को अफ्रीका का ये देश फ्रांस के चंगुल से आजाद हुआ था. उसके बाद ये रिपब्लिक ऑफ कॉन्गो बना. 1880 से कॉन्गो पर फ्रांस का कब्जा था. इसे फ्रेंच कॉन्गो के तौर पर जाना जाता था. उसके बाद 1903 में ये मिडिल कॉन्गो बना.लिकटेंस्टीन ने 15 अगस्त 1866 को जर्मनी से आजादी हासिल की थी. 1940 से ये 15 अगस्त को स्वतंत्रता दिवस के तौर पर मना रहा है. ये दुनिया के सबसे छोटे देशों में से एक है. दो दिन बाद देश अपनी आजादी की 73वीं सालगिरह मना रहा होगा. पूरे देश में जश्न का माहौल होगा. अंग्रेजों की 200 साल की गुलामी से आजाद हुए हमें 72 साल पूरे हो जाएंगे. इस मौके पर पूरे देश में कार्यक्रम होंगे. लेकिन क्या जश्न मनाने वाले सिर्फ हमीं होंगे? भारत के अलावा भी ऐसे 5 देश हैं, जो 15 अगस्त को आजादी का जश्न मनाते हैं. भारत की तरह इन पांचों देशों को आजादी भी 15 अगस्त को हासिल हुई थी. आप शायद नहीं जानते हों कि भारत के साथ साउथ कोरिया, नॉर्थ कोरिया, कांगो, बहरीन और लिकटेंस्टीन ने 15 अगस्त को आजादी हासिल की थी. साउथ कोरिया 15 अगस्त को अपना स्वतंत्रता दिवस मनाता है. 15 अगस्त 1945 को साउथ कोरिया ने जापान से आजादी हासिल की थी. यूएस और सोवियत फोर्सेज ने कोरिया को जापान के कब्जे से बाहर निकाला था. इस दिन साउथ कोरिया के लोग नेशनल हॉलीडे के तौर पर मनाते हैं. साउथ कोरिया की तरह नॉर्थ कोरिया भी 15 अगस्त को स्वतंत्रता दिवस के तौर पर मनाता है. दोनों देश 15 अगस्त 1945 को जापान के कब्जे से मुक्त हुए थे. नॉर्थ कोरिया 15 अगस्त को नेशनल हॉलीडे के तौर पर मनाता है. छुट्टी का दिन होने की वजह से इसी दिन यहां शादी करने की परंपरा चल पड़ी है. 15 अगस्त को ही बहरीन ने आजादी हासिल की थी. 15 अगस्त 1971 को बहरीन ने ब्रिटेन से आजादी हासिल की थी. हालांकि ब्रिटिश फौजें 1960 के दशक से ही बहरीन को छोड़ने लगी थी. 15 अगस्त को बहरीन और ब्रिटेन के बीच एक ट्रीटी हुई थी, जिसके बाद बहरीन ने आजाद देश के तौर पर ब्रिटेन के साथ अपने संबंध रखे. हालांकि बहरीन अपना नेशनल हॉलीडे 16 दिसंबर को मनाता है. इस दिन बहरीन के शासक इसा बिन सलमान अल खलीफा ने बहरीन की गद्दी हासिल की थी. कॉन्गो ने 15 अगस्त को आजादी हासिल की थी. 15 अगस्त 1960 को अफ्रीका का ये देश फ्रांस के चंगुल से आजाद हुआ था. उसके बाद ये रिपब्लिक ऑफ कॉन्गो बना. 1880 से कॉन्गो पर फ्रांस का कब्जा था. इसे फ्रेंच कॉन्गो के तौर पर जाना जाता था. उसके बाद 1903 में ये मिडिल कॉन्गो बना. लिकटेंस्टीन ने 15 अगस्त 1866 को जर्मनी से आजादी हासिल की थी. 1940 से ये 15 अगस्त को स्वतंत्रता दिवस के तौर पर मना रहा है. ये दुनिया के सबसे छोटे देशों में से एक है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here