दक्षिण अफ्रीका ये दस मौके भुना लेता तो न्यूजीलैंड की नहीं होती जीत

जनता से रिश्ता वेबडेस्क:-  दक्षिण अफ्रीका का इस विश्व कप में अभी तक का प्रदर्शन काफी निराशाजनक रहा है. किसी को भी उम्मीद नही थी कि उनके खेल का स्तर इस कदर गिर जाएगा. हालांकि किस्मत भी इस बार उसके साथ नज़र नही रही है. विश्व कप में बने रहने की उम्मीदों को ज़िंदा रखने के लिए उसे अब बाकी बचे अपने सभी मैच जीतने होंगे. साथ ही दूसरे मुकाबलों के नतीजों पर भी निगाहें बनाए रखनी होंगी.न्यूजीलैंड के खिलाफ पिछले मुकाबले में भी दक्षिण अफ्रीकी टीम अधिकतर समय ड्राइविंग सीट पर ही नजर आ रही थी, लेकिन अहम मौकों को न भुनाना टीम को भारी पड़ गया और न्यूजीलैंड के कप्तान शानदार शतक लगाकर उनके हाथ से बाजी जीत ले गए. आइए नजर डालते हैं ऐसे ही दस मौकों पर, जो दक्षिण अफ्रीका के पक्ष में चले जाते या जिन्हें अगर भुना लिया जाता तो जीत दक्षिण अफ्रीका की ही होती.

ओवर 1.1 : लुंगी एन्गिडी ने न्यूजीलैंड के ओपनर मार्टिन गप्टिल को 133 किमी प्रति घंटे की रफ़्तार से गेंद फेंकी जो उनके बल्ले के बहुत नज़दीक से निकलकर विकेटकीपर डी कॉक के दस्तानो में गई. मार्टिन की किस्मत बहुत अच्छी थी कि गेंद ने बल्ले का किनारा नही छुआ.

ओवर 1.4 : एन्गिडी की गेंद पर कोलिन मुनरो के बल्ले का अंदरूनी किनारा लगा और गेंद लेग स्टंप से महज़ कुछ दूर से निकल कर फाइन लेग पर चली गई. मुनरो बाल-बाल बच गए.

ओवर 15.5 : दक्षिण अफ्रीकी स्पिनर इमरान ताहिर ने केन विलियमसन को एक गुगली फेंकी जिसे विलियमसन पढ़ नहीं पाए और बॉल को ताहिर की तरफ पंच कर दिया. विलियमसन खुशकिस्मत रहे कि गेंद ताहिर तक नहीं पहुंची वरना उन्हें बहुत जल्दी अपना विकेट गंवाना पड़ता और न्यूज़ीलैंड मुश्किल में आ जाती.

ओवर 17.1 : विलियमसन ने ताहिर की गेंद को कट करना चाहा लेकिन गेंद उनके बल्ले का किनारा लेकर बॉउंड्री की तरफ निकल गई. अगर स्लिप में कोई फील्डर तैनात होता तो ये कैच हो सकता था.

ओवर 31.1 : ऐंडिल फेहलुकवायो की गेंद विलियमसन के बल्ले का किनारा लेकर फिर एक बार स्लिप से निकल गई. यूं तो अमला ने डाइव लगाकर कैच पकड़ने की कोशिश की पर बॉल उनसे थोड़ी सी ही दूर रह गई.

ओवर 35.6 : विलियमसन ने ताहिर की गेंद को मिड विकेट की तरफ धकेल कर एक रन चुराया. अगर मिलर डॉयरेक्ट थ्रो मार देते तो डी ग्रैंडहोम को पवेलियन वापस जाना पड़ता. पर ये दक्षिण अफ्रीका की बदकिस्मती थी कि मिलर इसमें सफल नही हुए.

ओवर 37.1 : विलियमसन ने ताहिर की गेंद को शाॅर्ट मिड विकेट की तरफ पुल करना चाहा पर मिलर वहां मौजूद थे. मिलर ने अपनी बाईं तरफ डाइव लगाकर कैच पकड़ने की कोशिश की, पर गेंद उनसे कुछ सेंटीमीटर दूर रह गई.

ओवर 37.6 : ताहिर ने विलियमसन को एक बेहतरीन गेंद से बीट किया. ताहिर को लगा कि बल्ले का किनारा लगा है तो उन्होंने अपील की पर उन्हें अपने साथियों का साथ नही मिला. इसके बाद अल्ट्रा एज में साफ़ नज़र आया कि गेंद बल्ले का किनारा छूकर डी कॉक के दस्तानो में गई थी. अगर अफ्रीका ने ये रिव्यू ले लिया होता तो विलियमसन जल्द आउट होकर पवेलियन की तरफ वापस चले गए होते.

ओवर 40.1 : विलियमसन ने रबाडा की गेंद को पुल करना चाहा लेकिन खराब टाइमिंग की वजह से गेंद उनके शरीर से लगकर रबाडा की तरफ गई. दोनों बल्लेबाज़ों ने रन चुराना चाहा पर रबाडा ने गेंद बॉलर एंड पर फेंकी, लेकिन अफ्रीकी टीम की किस्मत इतनी खराब थी की ये भी स्टंप्स के पास से होते हुए निकल गई.

ओवर 45.5 : डी ग्रैंडहोम ने एन्गिडी की गेंद को पुल किया और मिलर जो डीप मिड विकेट पर तैनात थे, वे फिर से चूक गए.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here