डीजीपी अवस्थी के दरबार में मुरादें हो रहीं पूरी…

जनता से रिश्ता वेबडेस्क
समस्याएं लेकर पहुंचे जवानों के परिजनों को मिली राहत
रायपुर । प्रदेश में कांग्रेस की नई सरकार के सत्ता संभालने के साथ ही पुलिस कर्मियों को सौगात के रूप में साप्ताहिक अवकाश मिलने वाला है। वहीं उनके परिजनों के लिए नए डीजीपी ने डीएम अवस्थी दरबार लगाकर पुलिस कर्मियों के परिजनों की समस्या का समाधान शुरू कर दिया है। पुलिस कर्मियों के परिजनों की मुराद डीजीपी के दरबार में पूरी हो रही है जिससे उनके परिवार को झंझावत से सुकून मिलना शुरू हो गया है। पुलिस महानिदेशक डीएम अवस्थी ने पुलिस मुख्यालय, अटल नगर, रायपुर में राज्य भर से आये पुलिस अधिकारियों और कर्मचारियों से मिलकर उनकी समस्याएं सुनी। उन्होंने विभिन्न जिलों से लगभग 400 से अधिक पुलिस अधिकारियों, कर्मचारियों और उनके परिजनों को आश्वस्त किया कि उनकी समस्याओं पर शासकीय नियमों के अनुरूप जल्द निराकरण किया जायेगा।
पुलिस महानिदेशक अवस्थी को इस मौके पर बस्तर अंचल से आये पुलिस कर्मियों और उनके परिजनों ने आरक्षक और सहायक आरक्षकों पद की वेतन विसंगतियों सहित विभिन्न समस्याओं के बारे में जानकारी दी, इस पर उन्होंने वेतन विसंगति का परीक्षण कराकर शासन स्तर से निराकरण कराने के लिए आश्वस्त किया। अवस्थी के समक्ष बलौदा-बाजार जिले के प्रधान आरक्षक रतन लाल स्वाई ने पूर्व से गंभीर बीमारी में सर्जरी होने और शारीरिक तकलीफों के फलस्वरूप कार्यालयीन कार्य कराये जाने का आग्रह करने पर उन्होंने पुलिस अधीक्षक बलौदा-बाजार, भाटापारा को प्रधान आरक्षक की ड्यूटी मैदानी क्षेत्र से अलग करते हुए कार्यालयीन कार्य कराये जाने के निर्देश दिऐ।
डीजीपी अवस्थी ने रामानुगंज-बलरामपुर (सरगुजा) जिले के 12वीं वाहिनी के आरक्षक स्वर्गीय अजय एक्का की पुत्री कुमारी अनुष्का एक्का को पुलिस रेग्युलेशन के पैरा 60 के तहत जिला रायगढ़ में रिक्त बाल आरक्षक के पद पर नियुक्ति की अनुमति प्रदान की। उल्लेखनीय है कि डीजीपी अवस्थी द्वारा प्रत्येक शुक्रवार के दिन पुलिस मुख्यालय, अटल नगर, रायपुर में पुलिस अधिकारियों और कर्मचारियों एवं उनके परिजनों से मिलने का दिन निर्धारित किया है।
पुलिस वालों के साप्ताहिक अवकाश पर एमपी से लेंगे फीडबैक
पुलिसकर्मियों को साप्ताहिक अवकाश देने के संबंध में सभी जिलों के एसपी व बटालियन के कमांडेंट ने हरी झंडी दे दी है। हालांकि मध्यप्रदेश से भी साप्ताहिक अवकाश देने के संबंध में बनाई गई नीति मंगाई जाएगी। मध्यप्रदेश की नीति के अच्छे पहलुओं को शामिल किया जाएगा। राज्य के अलग-अलग क्षेत्रों में काम कर रहे पुलिसकर्मियों की समस्याएं जानने के लिए 14 व 15 जनवरी को हर जिले से आरक्षक से लेकर सब इंस्पेक्टर को बुलाया गया है।
पुलिस मुख्यालय में शुक्रवार को डीआईजी नेहा चंपावत की अध्यक्षता में साप्ताहिक अवकाश व पुलिसकर्मियों की समस्याओं के समाधान के लिए गठित कमेटी की बैठक हुई। इसमें समिति के सदस्य डीआईजी संजीव शुक्ला, आरिफ शेख, कवर्धा एसपी डॉ. लाल उमेंद सिंह आदि भी शामिल हुए। कमेटी ने जिलों व बटालियन से आए फीडबैक पर चर्चा की।
जिलों व बटालियन से जो जानकारी भेजी गई है, उसके मुताबिक वीकली ऑफ देने में कोई परेशानी नहीं होने का उल्लेख है। मध्यप्रदेश ने काफी पहले ही वीकली ऑफ की शुरुआत कर दी है, इसलिए वहां की नीति का भी अध्ययन किया जाएगा, जिससे वहां की बेस्ट प्रैक्टिस को शामिल किया जा सके।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here