जालसाजी: कलेक्टर की फेसबुक ID से आए फ्रेंड रिक्वेस्ट को महिला अधिकारी ने किया एक्सेप्ट..फिर चेटिंग के जरिए पूछा…

जनता से रिश्ता वेबडेस्क। मुंगेली जिले से जालसाजी का बड़ा मामला सामने आया है. एटीएम ठगी से जुडा इस अनोखे मामले में बदमाशों ने सोशल मीडिया के जरिए फ्रॉड की वारदात को अंजाम देने की कोशिश की है. कहा जा रहा है कि ठगों ने फेसबुक में बिलासपुर कलेक्टर डॉ. सजय अलंग का ही फेक आईडी बना दिया. फिर इस आईडी से बदमाश अधिकारियों को फ्रेंड रिक्वेस्ट भेजने लगे. शुरूआत में नॉर्मल बाते होती थी, फिर बदमाश मांगे लगे थे बैंक डीटेलस. मैसेंजर में चेटिंग के जरिए ये ठग अधिकारियों से झांसा देकर उनके बैंक अकाउंट की जानकारी मांगते थे. इस पूरी साजिश का पर्दाफाश तब हुआ जब एक महिला अधिकारी को फ्रेंड रिक्वेस्ट आया और मैसेंजर में बातें होने लगी.

मिली जानकारी के मुताबिक बिलासपुर कलेक्टर डॉ. संजय अलंग के नाम का दुरूपयोग कर फेसबुक पर फर्जी आईडी बनाई गई. फिर इस अकाउंट से मुंगेली के अधिकारियों को फ्रेंड रिक्वेस्ट भेज कर एटीएम का जानकारी मांगने का सनसनीखेज मामला सामने आया. मामले का खुलासा तब हुआ जब मुंगेली के महिला बाल विकास विभाग की सुपरवाइजर विभा मसीह को बिलासपुर कलेक्टर डॉ.संजय अलंग के फेसबुक आईडी से फ्रेंड रिक्वेस्ट आया.

बिलासपुर कलेक्टर डॉ.संजय अलंग की आईडी से आए फ्रेंड रिक्वेस्ट को महिला अधिकारी ने भी एक्सेप्ट कर लिया.  फिर शुरू हुई मैसेंजर में चेटिंग. अचानक एक दिन चेटिंग के दौरा महिला अधिकारी एटीएम की जानकारी और एटीएम का फोटो मांगा गया. फिर विभा मसीह को कुछ संदेह हुआ और उसने बिलासपुर कलेक्टर को फोन लगाकर इस बारे में पूछा. महिला की बात सुनकर कलेक्टर भी हैरान रह गए और जानकारी मांगने की बात से साफ इंकार कर दिया. वहीं कलेक्टर ने फेक आईडी की भी आशंका जताई और बिलासपुर एसपी से जांच कराने की बात कही. वहीं मुंगेली की ही ईडीएम सोनम तिवारी को भी ऐसा ही मैसेज आने की जानकारी मिली है. बता दें कि बिलासपुर कलेक्टर डॉ. संजय अलंग पूर्व में मुंगेली कलेक्टर भी रह चुके है. इस वजह से बदमाशों ने उनके नाम का इस्तेमाल कर फेक आईडी बनाई और अधिकारियों से संपर्क किया. फिलहाल पुलिस इस मामले की जांत कर रही है.