जानिए इन 5 देशों की संसद पर हुए थे आतंकी हमले

जनता से रिश्ता वेबडेस्क:- संसद पर 13 दिसंबर, 2001 को हुए आतंकवादी हमले की आज बरसी है. आज से ठीक 17 साल पहले भारतीय संसद पर हुए आतंकी हमले में संसद भवन के गार्ड, दिल्ली पुलिस के जवान समेत कुल 9 लोग शहीद हुए थे. उस दिन एक सफेद एंबेसडर कार में आए 5 आतंकवादियों ने 45 मिनट में लोकतंत्र के सबसे बड़े मंदिर पर गोलियां बरसाकर पूरे हिंदुस्तान को झकझोर दिया था. प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी और विपक्ष की नेता सोनिया गांधी लोकसभा से निकल कर अपने-अपने सरकारी निवास के लिए कूच कर चुके थे. लेकिन गृह मंत्री लालकृष्ण आडवाणी अपने कई साथी मंत्रियों और लगभग 200 सांसदों के साथ हमले के वक्त लोकसभा में ही मौजूद थे. भारतीय संसद के अलावा कई और देशों में आतंकियों ने लोकतंत्र के मंदिर पर अपना निशाना बनाया है.

ईरान की संसद पर हमला
ईरानी संसद की इमारत और देश के पूर्व सर्वोच्च धार्मिक नेता अयातुल्लाह खोमैनी के मकबरे पर 7 जून 2017 को हुए हमलों में 12 लोगों की मौत हो गई थी. संसद सत्र के दौरान 7 बंदूकधारी अंदर घुसे और सुरक्षाकर्मियों एवं आगंतुकों पर गोलियां बरसानी शुरू कर दी, जिसमें 7 सुरक्षाकर्मियों की मौत हो गई थी और कई घायल हो गए. हालांकि जवाबी कार्रवाई में सभी आतंकी मारे गए थे. आतंकी संगठन आईएसआईएस ने ईरान की संसद पर हमले की जिम्मेदारी ली थी. बंदूकधारियों ने सांसदों को बंधक बना लिया था. हमलावरों के पास AK-47 राइफल और एक हमलावर के पास हैंडगन थी. ईरानी संसद की राष्ट्रीय सुरक्षा एवं विदेश नीति कमेटी के प्रवक्ता हुसैन नघवी हुसैनी ने हमले के बाद बताया कि चार में एक हमलावर जिंदा पकड़ा गया.

सोमालिया संसद पर हमला
मई 2014 को सोमालिया की राजधानी मोगादिशू में संसद पर हुए चरमपंथी हमले में 10 लोग मारे गए थे. यह हमला तब हुआ था जब संसद में सांसदों की बैठक चल रही थी. सोमालिया संसद पर हमला इस्लामी चरमपंथी गुट अल-शबाब ने किया था. हमले के तुरंत बाद सुरक्षाबलों ने सभी सांसदों को सुरक्षित इमारत से बाहर निकाल लिया था. इसके पहले भी मोगादिशू में संसद पर कई बार हमले हो चुके हैं.

ट्यूनीशिया में कई सांसदों को बनाया था बंधक
ट्यूनीशिया की संसद मार्च 2015 में आतंकी हमले का शिकार हुआ. बंदूकधारियों ने संसद पर हमला बोल दिया और कइयों को बंधक बना लिया. इस हमले में कई लोग मारे गए थे. संसद परिसर में गोलियों की आवाज गूंजते ही सुरक्षाबलों ने तुरंत परिसर को खाली करा लिया गया.

अफगानिस्तान के निचले सदन को उड़ा दिया था
जून 2015 में अफगानिस्तान की संसद में आतंकी हमला हुआ. 9 सिलसिलेवार धमाकों में 6 नागरिकों की मौत हो गई. सुरक्षाबलों ने सभी 7 आतंकियों को भी मौत के घाट उतार दिया. हमले की खबर मिलते ही सुरक्षाबलों ने तुरंत ऑपरेशन शुरू कर दिया. नेताओं, पत्रकारों को सुरक्षित जगह पर ले जाया गया. इस हमले में आतंकियों ने अफगानिस्तान संसद के निचले सदन को उड़ा दिया. इस आत्मघाती हमले की जिम्मेदारी तालिबान ने ली थी. इस हमले कुछ सांसदों को मामूली चोटें आई थीं. प्रत्यक्षदर्शियों के मुताबिक बंदूकधारी हमलावर संसद में घुसने की कोशिश में फायरिंग कर रहे थे, लेकिन सुरक्षा बलों ने उनकी कोशिशों को नाकाम कर दिया था.

ब्रिटेन की संसद में घुसने की कोशिश में मारा गया आतंकी
मार्च 2017 में ब्रिटेन की संसद के बाहर आतंकी हमला हुआ. ब्रिटिश संसद के बाहर एक हमलावर अंधाधुंध गोलियां बरसाते हुए लोगों को अपनी कार से रौंद दिया था, बाद में उसने संसद में घुसने की कोशिश की थी, तभी उसकी कार संसद की दीवार से जा टकराई. वहां तैनात सुरक्षाकर्मियों ने हमलावर को फौरन मार गिराया था. जिस समय यह हमला हुआ था ब्रिटिश संसद के अंदर कई सांसद मौजूद थे. ब्रिटेन की संसद के ठीक बाहर हुए इस हमले में 5 लोग मारे गए थे और करीब 30 लोग घायल हुए थे. इस हमले की जिम्मेदारी आतंकवादी संगठन ISIS ने ले ली थी. फायरिंग के बाद इमारत को बंद कर दिया गया था, जिससे आतंकियों की साजिश नाकाम हो गई थी.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here