जगदलपुर- कर्जदार बने 2 किसानों को जेल भेजने का मामला…मंत्री कवासी लखमा और चित्रकोट विधायक ने मामले में लिया संज्ञान, बस्तर कलेक्टर डॉ एयाज तम्बोली से की बातचीत

जनता से रिश्ता वेबडेस्क:-  जगदलपुर- कर्जदार बने 2 किसानों को जेल भेजने का मामला. खबर दिखाए जाने के बाद मंत्री कवासी लखमा और चित्रकोट विधायक ने मामले में लिया संज्ञान. बस्तर कलेक्टर डॉ एयाज तम्बोली से की बातचीत.

बता दे कि बस्तर के सैकड़ों किसानो ने केसीसी के तहत बैंक से लोन ले रखा है. उन्हीं में से बस्तर ब्लॉक के ग्राम भाटपाल के किसान तुलाराम मौर्य और ग्राम बस्तर के रहने वाले किसान सुखदास ने जगदलपुर के धर्मपुरा स्थित स्टेट बैंक से ड्रिप एरिगेशन के नाम पर 10 लाख और 4 लाख रुपये का लोन लिया था. किसानों के परिजनों का आरोप है कि बलराम चावड़ा और रघु सेठिया नामक बिचौलियों ने उनके घर आकर बैंक से लोन दिलाने दस्तावेजों पर हस्ताक्षर कराया. बैंक ने उन्हें कितना कर्ज दिया इसकी जानकारी भी किसानों को नहीं दी गई और एक किसान को 40 हजार और दूसरे किसान को 60 हजार देकर सारा पैसा बिचौलियों ने डकार लिया. जिसकी जानकारी उन्हें पहले नहीं थी.

किसान के परिजनों का कहना है कि कर्ज लेने के बाद इन किसानों ने खेती-बाड़ी शुरू कर दी लेकिन 4 साल बाद कर्ज़ नहीं चुका पाने  के चलते एडीबी शाखा ने किसानों पर लोन चुकाने का दबाव बनाया और उन्हें नोटिस भेजा तब उन्हें जानकारी हुई कि उनके नाम से लाखों रुपये का लोन लिया गया है. परिजनों का आरोप है कि लोन की राशि देख किसान बैंक पहुंचे और अपने द्वारा लिये गए लोन के दस्तावेज दिखाने की मांग की लेकिन बैंक के अधिकारियों ने उन्हें वहां से भगा दिया. बाद में बैंक ने चेक बाउंस का परिवाद कोर्ट में दाखिल किया. किसानों ने बैंक को पिछले साल 11 दिसंबर 2018 को लिखित में आवेदन देकर जानकारी लोन के दस्तावेज की कॉपी मांगने के साथ ही आवेदन में कहा कि जब उन्होंने चेक जमा ही नहीं किया है, बैंक के पास उनका चेक जमा है तो वे उसकी जानकारी भी दें. लेकिन बैंक ने उन्हें कोई भी जानकारी मुहैया नहीं कराया. जहां तीनों किसान जब शुक्रवार को पेशी पर कोर्ट पहुंचे तो उसके बाद उन्हें पुलिस ने गिरफ्तार कर जेल भेज दिया.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here