चांद पर लोगों को भेजेगा स्पेस-एक्स, एक शख्स के साथ किया करार

जनता से रिश्ता वेबडेस्क  स्पेस-एक्स ने कहा है कि वह अपने बिग फाल्कन रॉकेट (बीएफआर) के जरिए एक पर्यटक को चांद के पास भेजने की योजना बना रहा है. इस रॉकेट को लोगों को अंतरिक्ष में लेकर जाने के लिहाज से डिजाइन किया गया है. कंपनी ने ट्विटर पर कहा कि स्पेस-एक्स ने बीएफआर में सवार होकर चांद के पास जाने के लिए पहले निजी यात्री के साथ करार किया है. कंपनी का कहना है कि अंतरिक्ष की यात्रा करने की इच्छा रखने वाले आम लोगों का सपना पूरा करने की दिशा में यह महत्वपूर्ण कदम है.स्पेस-एक्स ने अभी इस संबंध में विस्तृत जानकारी नहीं दी है. कंपनी का कहना है कि वह सोमवार को विस्तार से जानकारी देगी. पूरी दुनिया में अब तक केवल 24 लोग ही चंद्रमा के मिशन पर जा सके हैं. 1972 के अपोलो मिशन के बाद कोई और नहीं जा सका है.

एलन मस्क 2040 तक मंगल ग्रह पर लोगों को भेजना चाहते हैं
एलन मस्क की प्रतिष्ठित स्पेस एक्स परियोजना के तहत अगले 20 सालों या 2040 तक मनुष्यों को मंगल ग्रह पर भेजा जा सकता है. ब्रिटेन के एक अंतरिक्ष यात्री टिम पीयाके के हवाले से मीडिया रिपोर्ट में यह जानकारी दी गई है.
पीयाके ब्रिटेन के पहले अंतरिक्ष यात्री हैं, जिन्हें अंतर्राष्ट्रीय अंतरिक्ष केंद्र (आईएसएस) पर भेजा जा रहा है. उन्होंने कहा कि निजी निवेश से लाल ग्रह पर मनुष्य को भेजने की परियोजना में तेजी आएगी.एक रिपोर्ट में कहा गया, “मंगल पर मनुष्य, मैं समझता हूं कि साल 2030 के अंत तक यह हो जाएगा.” उन्होंने कहा, “सरकारी अंतरिक्ष एजेंसियां और अंतर्राष्ट्रीय अंतरिक्ष अन्वेषण समूह भी इसी दिशा में काम कर रहे हैं.” उन्होंने कहा, “हालांकि कई लोग इससे पहले की समय सीमा का भी अनुमान लगा रहे हैं, लेकिन मेरा मानना है कि 2030 के अंत तक एक वास्तविक समय सीमा है.” इससे पहले फरवरी में स्पेस एक्स ने दुनिया के सबसे शक्तिशाली रॉकेट फॉल्कन हैवी को अंतरिक्ष में सफलतापूर्वक प्रक्षेपित करने में सफलता पाई. पीयाके ने कहा, “एलन मस्क जैसे महत्वाकांक्षी लोगों के अलावा कई अन्य कंपनियां में भी लोगों को मंगल ग्रह पर भेजने की महत्वाकांक्षाएं हैं.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here