जयपुर: गुर्जर आंदोलन की आंच रेलवे की कमाई पर, रोजाना साढ़े 3 करोड़ का नुकसान

जनता से रिश्ता वेबडेस्क :- जयपुर: गुर्जर आंदोलन का बड़ा असर लोगों के जनजीवन पर तो पड़ा ही है. साथ में रेलवे को करोड़ों को नुकसान उठाना पढ़ रहा है. हर रोज हजारों टिकिट कैंसल हो रहे हैं. ट्रेने रद्द हो रही हैं या फिर ट्रेनों को परिवर्तिति मार्ग से चलाया जा रहा है. आठ फरवरी से 12 फरवरी तक पांच दिनों में 80 से ज्यादा ट्रेनें डायवर्ट हो चुकी हैं. 100 से ज्यादा ट्रेनें रद्द हो चुकी हैं.हर रोज करीब दो करोड़ रुपए से ज्यादा का नुकसान सिर्फ कोटा रेल मंडल को उठाना पढ़ रहा है. दिल्ली मुम्बई रेल मार्ग बाधित होने से पश्चिम मध्य रेलवे के कोटा मंडल को हर रोज़ क़रीब दो करोड़ रुपय का नुक़सान हो रहा है. इसके अलावा ट्रैक और सिग्नल तंत्र में नुक़सान के ख़तरे को लेकर भी रेल प्रशासन आशंकित है. अधिकारी कर्मचारियों को छुट्टी नहीं दी जा रही है. ट्रेन नहीं चलने से मंडल में यात्री भार में तेज़ी से गिरावट आई है. मालगाड़ियों में माल का लदान नहीं होने से गुड्स परिवहन से होने वाली आय में भी ठप हो गई है. कोटा रेल मंडल में औसत डेढ़ करोड़ रुपए यात्री भार से और इतनी ही आय माल परिवहन से होती है, लेकिन दोनो पर गुर्जर आंदोलन का असर है कि सिर्फ़ सोमवार 11 तारीख़ को कोटा मंडल से गुज़रने वाली छब्बीस ट्रेनें रद्द कर दी गई. 26 ट्रेनों को परिवर्तित मार्ग से चलाया गया. वहीं कई ट्रेनों को आंशिक रद्द रखा गया. इस कारण आरक्षित श्रेणी के क़रीब 30 हज़ार यात्रियों को अपनी यात्रा स्थगित करनी पड़ी. वहीं सामान्य श्रेणी और पैसेंजर ट्रेनों का सफ़र करने वाले क़रीब चालीस हज़ार यात्री सफ़र नहीं कर पाए.

  • 90 ट्रेनों का औसत हर रोज कोटा मंडल में संचालन होता है.
  • 52 ट्रेने आंदोलन से प्रभावित हुए हैं.
  • 97 स्टेशनों पर कोटा मंडल में ट्रेनें ठहरती हैं
  • 29 स्टेशनों के यात्रियों को परेशानी हो रही है.
  • 01 करोड़ से ज्यादा की आय सिर्फ यात्री भाड़े से घट गई है.
  • गुड्स ट्रेनें भी बुरी तरह प्रभावित हैं. ऐसे में डेढ़ करोड़ से ज्यादा का नुकसान माल भाड़े में हो रहा है.

फिलहाल से शुरुआती आंकड़ों के अनुसार, गुर्जर आंदोलन के चलते रेलवे को भारी नुक्सान उठाना पढ़ रहा है. अधिकारिओं के हिसाब से ये आंकड़ा अभी बढ़ेगा, लेकिन सवाल सबसे बढ़ा ये है कि इस नुकसान और हजारों यात्रियों की परेशानी का जबाब किसके पास है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here