ओडिशा में स्नेक हेल्पलाइन टीम को घायल हालत में मिला खतरनाक गोल्डेन कोबरा, ऑपरेशन कर शरीर से निकाला गया सरिया

जनता से रिश्ता वेबडेस्क:- नई दिल्ली : ओडिशा के पुरी जिले में स्नेक हेल्पलाइन की टीम ने एक इंडियन कोबरा को घायल अवस्था में बचाया है. पुरी के देलांग ब्लॉग से रेस्क्यू किया गया यह कोबरा बुरी तरह घायल था. सुनहरे रंग के इस कोबरा के शरीर में सरिया घुसा हुआ था. इसके बाद कोबरा को भुवनेश्वर के कॉलेज ऑफ वेटनरी साइंस एंड एनिमल हसबैंड्री में इलाज के लिए ले जाया गया. समाचार एजेंसी एएनआई के मुताबिक अस्पताल में कोबरा का ऑपरेशन कर सरिया बाहर निकाला गया. फिलहाल डॉक्टरों की टीम उसपर नजर रख रही है. 

 कॉलेज ऑफ वेटनरी साइंस एंड एनिमल हसबैंड्री के डॉ. आई नाथ ने कहा, ‘हमनें सांप की रेडियोग्राफी की, ताकि यह पता लगाया जा सके कि कहीं उसके पसलियों (स्केलेटल) को नुकसान तो नहीं पहुंचा है. जांच में पता चला कि कोबरा के फेफड़े और आंत को काफी गंभीर नुकसान पहुंचा है.’ डॉ. आई नाथ ने कहा, ‘फेफड़े और आंत को नुकसान पहुंचने की वजह से सांप को सांस लेने में कठिनाई हो रही थी और उसे लकवा मार गया. फिलहाल उसे अगले 24 घंटे के लिए निगरानी में रखा गया है.’अगर किसी को सांप डंस ले तो सबसे पहले किसी नई ब्लेड से काटे हुई जगह पर प्लस (+) निशान बनाते हुये चीरा लगा दें और उसके ऊपर मजबूती से रस्सी या धागे का बांध ताकि जहर ऊपर न चढ़े.  पीड़ित को डराए नहीं और न उसे डरने दें क्योंकि सांप काटने के बाद कई लोग घबराहट और सदमे की वजह से भी मौत का शिकार हो जाते हैं. जितनी जल्दी हो सके किसी अच्छे डॉक्टर के पास ले जाएं और हो सके तो किस सांप ने काटा है इसकी भी जानकारी दें. एक बात का हमेशा ध्यान रहे सांप काटने के बाद किसी नीम-हकीम, तांत्रिक-ओझा के चक्कर में बिलकुल न पड़ें.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here