इन 5 शेयरों से एक साल में हो सकती है खूब कमाई

जनता से रिश्ता वेबडेस्क:- लोकसभा चुनाव के बाद से शेयर बाजार में तेजी का माहौल है। क्रूड ऑइल की कीमतों में गिरावट, बॉन्ड यील्ड में नरमी और आर्थिक सुधारों की उम्मीद इनमें मुख्य है। बीएसई सेंसेक्स का प्राइस-टू-अर्निंग रेशियो (PE) 28.7 है, जो लंबी अवधि के इसके औसत से 31% ज्यादा है। अर्थव्यवस्था को चुनौतियों का सामना करना पड़ रहा है। जीडीपी ग्रोथ की रफ्तार धीमी है। NBFC का संकट बरकरार है और ग्लोबल ट्रेड कम हो रहा है।सीधे शेयरों में निवेश करने वालों को बाजार की ऐसी परिस्थितियों में मजबूत कंपनियों का चुनाव करना चाहिए। अच्छी कंपनियों को पहचानने के कई तरीके हैं। हमेशा ऐसे शेयरों को देखना चाहिए जिन्होंने विश्लेषकों की उम्मीदों के मुताबिक बेहतर प्रदर्शन किया हो। फाइनैंशल ऐनालिस्ट कमाई का अनुमान बताने के लिए बुनियादी विश्लेषण करते हैं। इसका आधार बिक्री, कमाई, खर्च, मार्जिन और अन्य रेशियो होते हैं। अब तक करीब 3500 कंपनियां चौथी तिमाही के घोषित कर चुकी हैं। तमाम पैमानों पर कसने के बाद हम उन पांच कंपनियों के बारे में बता रहे हैं जो एक साल में अच्‍छा रिटर्न दे सकती हैं।

1. पराग मिल्क फूड्स
यह प्राइवेट सेक्टर की डेयरी कंपनी है। यह दूध और इससे बनने वाले उत्पादों की मैन्युफैक्चरिंग और प्रोसेसिंग करती है। इसके पोर्टफोलियो में 15 से ज्यादा प्रॉडक्ट हैं। एडलवाइज इस शेयर को लेकर काफी उत्साहित है। इसके पीछे कई कारण हैं। कंपनी का डिस्ट्रीब्यूशन नेटवर्क बढ़ रहा है। नए उत्पादों को लॉन्च करने की रफ्तार बढ़ी है। हेल्थ और न्यूट्रिशन सेगमेंट में इसकी हिस्सेदारी बढ़ी है। ब्रोकरेज हाउस को लगता है कि कार्यशील पूंजी जरूरतों में कटौती और एसेट के ज्यादा से ज्यादा उपयोग के चलते कंपनी 2020-21 तक अर्निंग में 17 फीसदी ग्रोथ दर्ज कर सकती है। इस दौरान लगाई गई पूंजी पर रिटर्न 20 फीसदी (ROCE) रह सकता है।

2. मल्टी कमोडिटी एक्सचेंज
यह एक सूचीबद्ध कमोडिटी डेरिवेटिव एक्सचेंज है। एमसीएक्स ऑनलाइन ट्रेडिंग, क्लीयरिंग और कमोडिटी डेरिवेटिव ट्रांजेक्शन के सेटेलमेंट की सुविधाएं देता है। चौथी तिमाही में कंपनी का मार्केट शेयर बढ़ा है। इसने लागत पर जोरदार अंकुश लगाया है। एचडीएफसी इस शेयर को लेकर काफी आशावान है। मार्केट लीडरशिप और दैनिक औसत ट्रेडिंग वॉल्यूम में बढ़ोतरी इसके पीछे प्रमुख कारण हैं। 2018-19 और 2020-21 के बीच एमसीएक्स के रेवेन्यू और टैक्स बाद प्रॉफिट क्रमशः 18 फीसदी और 14 फीसदी रह सकते हैं।

3. परसिस्टेंट सिस्टम्स

इसकी सॉफ्टवेयर डेवलपमेंट और टेक्नॉलजी सर्विसेज में विशेषज्ञता है। इसके बिजनस सेगमेंट में इंफ्रास्ट्रक्चर एंड सिस्टम्स, टेलिकॉम एंड वायरलेस, लाइफ साइंसेज एंड हेल्थकेयर और फाइनेंशियल सर्विसेज शामिल हैं। फ्री कैश फ्लो यील्ड, बेहतर परिचालन प्रदर्शन और लीडरशिप में हाल में हुए बदलाव के कारण विश्लेषक इस शेयर को लेकर काफी उत्साहित हैं। यह शेयर काफी आकर्षक कीमतों पर उपलब्ध है।

4. एलएंडटी फाइनेंस होल्डिंग्स
इस एनबीएफसी की मौजूदगी रूरल बिजनस, हाउसिंग बिजनस, होलसेल बिजनस, म्यूचुअल फंड और वेल्थ मैनेजमेंट सर्विसेज में है। जेएम फाइनेंशियल की रिपोर्ट के अनुसार, कंपनी अच्छे रिटर्न देने की मजबूत स्थिति में है। अच्छी क्रेडिंट रेटिंग, फंडों की आसान उपलब्धता, रिटेल बुक की ज्यादा हिस्सेदारी इत्यादि जैसी बातें इसके पक्ष में जाती हैं। ब्रोकरेज हाउस को 2018-19 और 2020-21 के बीच 23 फीसदी अर्निंग की उम्मीद है।

5. शोभा
यह रियल एस्टेट कंपनी है। यह मुख्य रूप से रेजिडेंशल और कॉन्ट्रैक्चुअल प्रोजेक्टों पर काम करती है। जेपी मॉर्गन को उम्मीद है कि 2019-21 में इसकी प्री-सेल्स ग्रोथ 10-15 फीसदी बढ़ेगी।