अमेरिका में एक ऐसा रैकेट का हुआ पर्दाफ़ाश, जो अमीर प्रेग्नेंट महिलाओं का करवाता था बच्चो का जन्म

जनता से रिश्ता वेबडेस्क |  अमेरिका में एक ऐसे रैकेट का पर्दाफ़ाश हुआ है जो चीन की अमीर प्रेग्नेंट महिलाओं को अमेरिका लाकर उनके बच्चों का जन्म करवाता था. रैकेट में शामिल लोग ऐसा इसलिए करते थे ताकि बच्चों को अमेरिका की नागरिकता मिल सके. इस रैकेट में चलाने वाले 41 साल की दोंगयुआन ली ने अमेरिका की अदालत में यह स्वीकार किया कि 2013 से मार्च 2015 तक उसकी कंपनी ‘यू विन यूएसए वैकेशन सर्विसेज’ ने प्रेग्नेंट चीनी महिलाओं को अमेरिका आने और बच्चे को जन्म देने में मदद की. बताया जाता है कि चीनी ग्राहकों के लिए कैलिफॉर्निया में ‘बर्थ टूरिजम’ योजना चलाने के रैकेट में कई सरकारी अधिकारी भी शामिल हैं जिन्होंने बड़ी रकम अदा की ताकि उनके बच्चों को अमेरिकी नागरिकता मिल सके.अधिकारियों ने बताया कि दोंगयुआन ली प्रेग्नेंट महिलाओं को अमेरिका भेजने के लिए 40 हजार से 80 हजार डॉलर तक लेता था. आरोपी दोंगयुआन ली ने अदालत में यह बताया कि वह ग्राहकों को इस बात की ट्रेनिंग देता था कि उन्हें अमेरिकी इमिग्रेशन कंट्रोलर से कैसे बचना है और प्रेग्नेंट होने की बात उन्हें कैसे छुपाना है.दोंगयुआन ली की कंपनी ने अपनी वेबसाइट में यह भी दावा किया था कि उसने अब तक 500 से अधिक प्रेग्नेंट चीनी महिलाओं को अमेरिका पहुंचने और उनके बच्चों को जन्म दिलाने में मदद की है, ताकि उन बच्चों को अमेरिकी नागरिकता मिल सके.मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, इस मामले में दोंगयुआन ली को 15 साल तक की सजा हो सकती है. अदालत सजा के संबंध में 16 दिसंबर को फैसला सुनाएगी. गौरतलब है कि अमेरिका की नागरिकता पाने की होड़ कई देशों में चल रही है. हर साल तमाम देशों की हजारों गर्भवती महिलाएं वैध वीजा पर हर साल अमेरिका में आती हैं और बच्चों को जन्म देती हैं. बच्चे का जन्म होते ही वह अमेरिकी नागरिक बन जाता है। नियमों के अनुसार, यदि मां अपने वीजा आवेदन में झूठ नहीं बोलती है और चिकित्सा सेवा के लिए भुगतान कर सकती है, तो यह प्रक्रिया वैध है. हाल ही में ट्रम्प प्रशासन ने इस प्रक्रिया की निंदा की है और जन्मजात नागरिकता रद्द करने का विचार कर रही है.

चीन की अमीर प्रेग्नेंट महिलाएं जा रही हैं अमेरिका, हैरान कर देगा सच चीन की अमीर प्रेग्नेंट महिलाएं जा रही हैं अमेरिका, हैरान कर देगा सच