अगर ज़हर एक्स्पपायरी डेट के पार चला जाये तो वह कम ज़हरीला हो जायेगा या अधिक ?

Hits: 31

जनता से रिश्ता वेबडेस्क :- समाप्ति तिथि वो समय सीमा है जिसके बाद वस्तु उस काम के लायक नहीं रहती है जिसके लिए वो बनाई गई है। और सामान्यतः जो भी जहरीली चीजे है , वो इस काम के लिए नहीं बनाई जाती की कोई व्यक्ति इसका सेवन करे और उस व्यक्ति को इस मृत्युलोक से छुटकारा मिल जाए, बल्कि वो किसी ओर काम के लिए बनती है बस उसमे कुछ ऐसे रसायन होते है जो इन्सानी सेहत के लिए हानिकारक व जानलेवा होते है।

अब यदि कोई पदार्थ जहरीला है तो समाप्ति तिथि के बाद वो पदार्थ कम जहरीला होगा या अधिक, यह इस बात पर निर्भर करेगा कि समाप्ति तिथि के बाद उस पदार्थ की रासायनिक सरचना में क्या बदलाव होगा।

टूट जाते हैं रासायनिक संबंध

अगर पदार्थ के टूट के ऐसे रसायन बनाती है, जो अधिक जहरीले है तो वो अधिक जहरीला हो जाएगा, और नए रसायन यदि कम जहरीले हुए तो पदार्थ कम जहरीला हो जाएगा। यह भी हो सकता है कि पदार्थ उतना ही जहरीला रहे लेकिन इसकी संभावना बहुत कम है कि समाप्ति तिथि के बाद वो ज़हरिला ही न रहे।

उदारहण के जरिए एक बात और कहना चाहता हूं, माना आपके पास कोई कीड़ो को मारने की दवा है, और आप उसका इस्तेमाल समाप्ति तिथि के बाद भी उसका इस्तेमाल यह सोच के करते है की मारने तो कीड़े ही है, मरे तो ठीक नहीं तो कोई बात नहीं । लेकिन यह गलत है , हो सकता है समाप्ति तिथि के बाद वो दवा और जहरीला हो गयी हो और उसका इस्तेमाल आपके लिए भी नुकसानदेह हो। ।इस लिए समाप्ति तिथि के बाद किसी भी वस्तु का इस्तेमाल करने से बचना चाहिए , भले उसका सेवन करना हो या अन्य किसी काम में लेना हो।

Note: यह आर्टिकल मात्र एडुकेशन उद्देश्य से लिखा गया है। इसके गलत इस्तेमाल के लिए The Hind Tech उत्तरदायी नहीं होगा

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here