महाराष्ट्र

महाराष्ट्र में दुकानों के मराठी बोर्ड पर घमासान, व्यापारियों ने की सरकार से सुरक्षा की मांग

Kunti
15 Jan 2022 8:24 AM GMT
महाराष्ट्र में दुकानों के मराठी बोर्ड पर घमासान, व्यापारियों ने की सरकार से सुरक्षा की मांग
x
बढ़ी खबर

मुंबई: महाराष्ट्र में छोटी-बड़ी सभी दुकानों पर बड़े अक्षरों में मराठी में साइनबोर्ड लगाने को लेकर राजनीतिक दलों में श्रेय लूटने की होड़ मच गई है। इससे व्यापारी सहम गए हैं। वे अपनी और अपनी दुकान की सुरक्षा को लेकर चिंतित हैं। गौरतलब है कि मंत्रिमंडल ने बुधवार को दुकानों के बड़े साइनबोर्ड मराठी में अनिवार्य करने का निर्णय किया था।मनसे नेता संदीप देशपांडे ने धमकी भरे लहजे में कहा, 'दुकानदार सोच लें कि साइनबोर्ड बदलने का खर्च ज्यादा आएगा या दुकान के कांच बदलने का खर्च ज्यादा होगा।' फेडरेशन ऑफ रिटेल ट्रेडर्स ऐंड वेलफेयर असोसिएशन के अध्यक्ष वीरेन शाह ने कहा, 'दुकानों के बोर्ड मराठी में लिखने पर कोई आपत्ति नहीं है, लेकिन फॉन्ट साइज को लेकर आपत्ति है।' उन्होंने सरकार से इस बारे में दुकानदारों पर दबाव न डालने की गुजारिश की। साथ ही, अपनी और अपनी दुकान की सुरक्षा की मांग भी की। इसके बाद उनकी दुकान के आसपास पुलिस तैनात कर दी गई।

'सरकार उठाए खर्चा'
इधर, एआईएमआईएम के सांसद इम्तियाज जलील ने ठाकरे सरकार से मांग की है कि लॉकडाउन के चलते दुकानदारों का बुरा हाल है। उनकी गुजर-बसर मुश्किल है। वे दुकान के साइनबोर्ड बदलने के लिए पैसे कहां से लाएंगे? साइनबोर्ड बदलने का खर्चा सरकार उठाए।
''ऐसी भाषा न बोलें'
इस पर शिवसेना सांसद संजय राउत ने कहा, 'महाराष्ट्र में रहते हैं, यहां कारोबार करते हैं और मराठी का विरोध करते हैं। इसे कभी सहन नहीं किया जाएगा। सांसद जलील को ऐसी भाषा नहीं बोलनी चाहिए।'


Next Story
© All Rights Reserved @Janta Se Rishta
Share it