छत्तीसगढ़

बाल विवाह कानूनन अपराध है - डी.पी.ओ. समीर पांडेय

Shantanu Roy
26 April 2022 6:03 PM GMT
बाल विवाह कानूनन अपराध है - डी.पी.ओ. समीर पांडेय
x
छग

महासमुंद। बाल विवाह एक सामाजिक बुराई ही नहीं अपितु कानूनन अपराध है। बाल विवाह प्रतिषेध अधिनियम 2006 के अंतर्गत बाल विवाह करने वाले वर एवं वधु के माता-पिता, सगे संबंधी, बाराती यहाँ तक कि विवाह कराने वाले पुरोहित पर भी कानूनी कार्यवाही की जा सकती है। इसके अतिरिक्त यदि वर या कन्या बाल विवाह पश्चात् विवाह को स्वीकार नहीं करते है, तो बालिक होने के पश्चात् विवाह को शून्य घोषित करने हेतु आवेदन कर सकते है।

महिला एवं बाल विकास विभाग के जिला कार्यक्रम अधिकारी समीर पांडेय ने बताया कि बाल विवाह के कारण बच्चों में कुपोषण, शिशु मृत्यु दर एवं मातृ मृत्यु दर के साथ घरेलू हिंसा में भी वृद्धि होती है। हम सभी का दायित्व है कि समाज में व्याप्त इस बुराई के पूर्णतः उन्मूलन के लिए जनप्रतिनिधियों, नगरीय निकाय, पंचायती राज संस्थाओं के प्रतिनिधियों, स्वयंसेवी संगठनों एवं आमजनों से सहयोग प्राप्त कर इस प्रथा के उन्मूलन के लिए कारगर कार्यवाही कर सकते है।


Next Story
© All Rights Reserved @ 2022Janta Se Rishta