CG-DPR

निक्षेपकों के हितों का संरक्षण के लिए सम्पत्ति कुर्क हेतु आदेश जारी

jantaserishta.com
25 March 2022 5:49 AM GMT
निक्षेपकों के हितों का संरक्षण के लिए सम्पत्ति कुर्क हेतु आदेश जारी
x

बालोद: कलेक्टर एवं जिला दण्डाधिकारी व सक्षम प्राधिकारी श्री जनमेजय महोबे ने निक्षेपकों के हितों का संरक्षण के उद्देश्य से सम्पत्ति कुर्क हेतु आदेश जारी किया है। कलेक्टर द्वारा जारी आदेश में कहा गया है कि अनियमित कंपनी ग्रीन्डले प्रोजेक्ट एवं डेव्लपर्स लिमिटेड की संपत्ति ग्राम सिकोसा प.ह.नं. 31 तहसील गुण्डरदेही जिला बालोद स्थित भूमि खसरा नं. 201 रकबा 2.90 हे. पाये जाने से छत्तीसगढ़ शासन गृह (सामान्य) विभाग मंत्रालय महानदी भवन नवा रायपुर अटल नगर का पत्र क्रमांक-एफ 16-02/2019/समन्वय/गृह-दो नवा रायपुर दिनांक 01.07.2021 के परिपालन में संपत्ति कुर्की करने का अंतःकालीन आदेश पारित करने हेतु थाना गोलबाजार जिला रायपुर का अपराध क्रमांक 108/2015 धारा 420, 409, 34 छ0ग0 उक्त कुर्की प्रकरण में सम्मिलित किये जाने हेतु कार्यालय पुलिस अधीक्षक रायपुर द्वारा प्रस्तुत ज्ञापन एवं संलग्न दस्तावेज आवष्यक कार्यवाही हेतु प्राप्त होने पर प्रकरण पंजीबद्व कर कार्यवाही प्रारंभ किया गया है। अनिमियत वित्तीय कंपनी ग्रीन्डले प्रोजेक्ट एवं डेव्लपर्स लिमिटेड/वित्तीय स्थापना के संप्रवर्तक, भागीदार निर्देशक, प्रबंधक व सदस्यो द्वारा छ0ग0 राज्य के विभिन्न निवेशकों को ठगी व धोखा देने के उद्देश्य से लुभावने योजनाओं के तहत धन राशि जमा कराये जाने एवं राशि धोखाधडी़/गबन करने के संबंध में षिकायतकर्ता/आवेदक अलखराम साहू पिता स्व. श्री लक्ष्मण सिंह साहू निवासी भेन्ड्रा तहसील गुण्डरदेही जिला बालोद के आधार पर थाना गोलबाजार जिला रायपुर के अपराध 108/2015 धारा 420,34 छत्तीसगढ़ 3,4,5 प्राईज मनी लाडरिंग एक्ट 1978 जोड़ने धारा छ0ग0 निक्षपेकों का हितों का संरक्षण अधिनियम 2005 की धारा 10 तहत पंजीबद्व कर विवेचना उपरांत संपत्ति बालोद जिले अंतर्गत ग्राम सिकोसा प.ह.नं. 31 तहसील गुण्डरदेही स्थित भूमि खसरा नं. 201 रकबा 2.90 हे. भूमि पाये जाने से संपत्ति कुर्की हेतु पत्राचार किया गया है।

पुलिस अधीक्षक जिला रायपुर के प्रतिवेदन अनुसार थाना गोलबाजार के अपराध क्रमांक 108/15 के अनियमित वित्तीय कंपनी ग्रीन्डले प्रोजेक्ट एवं डेव्लपर्स लिमि. के भूमिस्वामी ए.के. भद्रा नाम से जिला बालोद के ग्राम सिकोसा प.ह.नं. 31 रा.नि.मं. सिकोसा तहसील गुण्डरदेही मंें भूमि खसरा नं. 201 रकबा 2.90 हे. भूमि उपलब्ध है जिसकी बाजार मूल्य 63,53,900/- है। उक्त कंपनी द्वारा कुल 582 निवेषको निवेश के माध्यम से गबन की गई राशि 8000000/- रूपये है। अनियिमित वित्तीय कंपनी ग्रीन्डलेप्रोजेक्ट एवं डेव्लपर्स लिमिटेड के चिन्हिंत सपंत्ति कुल रकबा 2.90 हे. को छ0ग0 निक्षेपकों का संरक्षण अधिनियम की धारा 07 के तहत कुर्की हेतु आवश्यक कार्यवाही हेतु प्रतिवेदन पेश किया गया है। प्रस्तुत प्रतिवेदन के आधार पर न्यायालय द्वारा आरोपी कंपनी एवं संचालक, संतोष सिकंदर अंबाला, स्वर्ण सिंह अमृतसर पंजाब, अलोक कुमार भद्रा देवेन्द्र नगर रायपुर को उनके पक्ष समर्थन के लिये नोटिस जारी कर तामिली थाना प्रभारी गोलबाजार के माध्यम से कराये जाने के साथ डायरेक्टों नामजाद पते की जानकारी मंगाया गया। थाना प्रभारी गोलबाजार जिला रायपुर से प्राप्त नोटिस उपरांत अनियमित वित्तीय कंपनी ग्रीन्डले प्रोजेक्ट डेव्लपर्स जैनब मेंशन द्ववीपतल अमरदीप टाकीज रोड बांस टाल रायपुर तथा उनके संचालक संतोश सिकन्दर पिता स्व. श्री धर्मदार सिकन्दर उम्र 58 साल निवासी म.न.ं 35 सेक्टर सी डिफंेस कालोनी कलरहेडी रोड थाना पंजोरखरा साहिब अंबाला केंट हरियाणा एवं संचालक स्वर्ण सिंह पिता स्व. श्री हरद्याल सिंह उम्र 55 साल साकिन मेडिकल दूनकलेव एक्सटेंशन नियर छतरी वाली कोठी 415 थाना मजीठा रोड अंमृतसर जिला अमृत पंजाब को पता साजी किया गया, कोई पता नहीं चलने से नोटिस अदम तामिल प्राप्त। इस प्रकार आरोपी डायरेक्टर निवास पते पर नहीं पाये जाने नोटिस तामिल कराया जाना संभव नही गया। आरोपी कंपनी के संचालक एवं भूमिस्वामी अलोक कुमार भद्रा को नोटिस सूचना उपरांत अपने अधिवक्ता के माध्यम से जवाब प्रस्तुत किया है कि प्रश्नागत कंपनी के द्वारा बेईमानी पूर्वक हरकतांे के कारण डारयेरक्टर/नौकरी से इस्तीफा दिनांक 07.11.2009 दिये जाना तथा कंपनी मुख्य डायरेक्टर स्वर्ण सिंह जो मुख्य आरोपी है। जिसे पुलिस विभाग द्वारा गिरफ्तार नहीं किया गया है। कंपनी की संपत्ति विधिवत राजसात एवं नीलाम कर निवेशकों को उनके निवेश किये गये रकम शीघ्र अतिशीघ्र लौटाने की कार्यवाही किया जाने हेतु किसी प्रकार कोई आपत्ति नहीं होना जवाब में बताया है।
तहसीलदार गुण्डरदेही से आरोपी कंपनी की संपत्ति के संबंध में प्रतिवेदन लिया गया उनके प्रतिवेदन अनुसार कंपनी के नाम से मौजा सिकोसा प.ह.नं. 31 स्थित भूमि खसरा नं. 201 रकबा 2.90 हे. लगान 7.50 रूपये ग्रीन्डले प्रोजेक्ट एण्ड डेवलपर्स लिमिटेड जैनब मेंशन द्तीपतल अमरदीप टाॅकीज रोड बांसटाल रायपुर भूमिस्वामी के नाम पर दर्ज होना बताया गया है। जिसकी वर्ष 2020-21 गाईड लाईन अनुसार उक्त अचल संपत्ति की कीमत 63,53,900/- (अक्षरी तिरसठ लाख तिरपन हजार नौ सौ रूपये) होना प्रतिवेदित किया गया है। आवेदकगण परमानंद सिंहा एवं अन्य 6 द्वारा आरोपी कंपनी के वाद भूमि खसरा नं. 201 रकबा 2.90 हे. में से कुल 13077 वर्गफीट/ 0.12 हे. भूमि को वर्ष 2012 में क्रय किये जाना एवं प्रमाणीकरण के संबंध में मार्गदर्शन हेतु आवेदन पेश किया गया है। प्रस्तुत दस्तावेज अनुसार आरोपी कंपनी द्वारा वाद भूमि का टुकड़ा रकबा कुल रकबा 13077 वर्गफीट/ 0.12 हे. भूमि को उपरोक्त 07 आवेदको/के्रताओं केा विक्रय किया जा चुका है, के्रतागण द्वारा क्रय वाद भूमि का प्रमाणीकरण नहीं कराये जाने से वर्तमान में संपूर्ण रकबा 2.90 हे. आरोपी कंपनी के नाम पर दर्ज होना पाया गया है। छत्तीसगढ़ के निक्षपेकों के हितों का संरक्षण अधिनियम की धारा 7(1) (एक) (दो) में यह प्रावधान उपबंधित है कि किसी वित्तीय स्थापना के विरूद्ध कपटपूर्ण तरीके से व्यक्तिक्रम के संबंध में निक्षेपकों या अन्य किसी प्रकार के शिकायत प्राप्त होने पर, सक्षम प्राधिकारी अर्थात जिला मजिस्ट्रेट ऐसी वित्तीय स्थापना के विरूद्ध जो निक्षेपकों को धोखा देने की इरादे से या सोचे समझे तरीके से कार्य कर रही है और इनके द्वारा यदि निक्षेपकों के हित में निक्षेप की गई राशि या धन की वापसी नहीं किया जाता है, तो उस वित्तीय स्थापना की संपत्ति को कुर्क करते हुए अंतःकालीन आदेश पारित कर सकते है और स्थानीय समाचार पत्रों में प्रकाशन भी करवा सकेंगे।
प्रकरण में पुलिस अधीक्षक रायपुर, थाना गोलबाजार एवं तहसीलदार गुण्डरदेही द्वारा प्रस्तुत प्रतिवेदन का परिशीलन तथा प्रकरण में संलग्न साक्ष्य दस्तावेज का अवलोकन किया गया। विवेचना में आधार पर यह समाधान हो गया है कि अनावेदक अनियमित वित्तीय कंपनी ग्रीन्डले प्रोजेक्ट डेव्लपर्स लिमिटेड के संचालकों द्वारा आमजनो निवेशको को लुभावने योजनायें बताकर छलकपट /ठगी करते हुये धन राशि निवेश कराया जा कर निक्षेप की गई राशि वापस नहीं किये गये हैं। जिस कारण अनावेदक कंपनी ग्रीन्डले प्रोजेक्ट एण्ड डेव्लपर्स लिमिटेड/संचालक/डायरेक्टर के विरूद्ध थाना गोलबाजार जिला रायपुर में अपराध पंजीबद्ध किया गया तथा कंपनी के स्वर्णसिंह एवं संतोश सिकंदर डायरेक्टर निवास पते से फरार है। कंपनी के संचालक एवं शामिल भू-स्वामी ए.के भद्रा द्वारा अपने जवाब में स्वतः स्वीकार किया है कि कंपनी के द्वारा निवेशकों धोखा एवं बेईमानी किये जाने किये जाने से डायरेक्टर पद से त्याग दिया है। इससे स्पष्ट है कि आरोपी कंपनी द्वारा निवेशकों से राशि ठगी/धोखा कर प्राप्त धनराशि से ग्रीन्डले प्रोजेक्ट एवं डेव्लपर्स लिमिटेड एवं ए.के. भद्रा संचालक के नाम पर अचल संपत्ति ग्राम सिकोसा प.ह.नं. 31 तहसील गुण्डरदेही जिला बालोद स्थित भूमि खसरा नं. 201 रकबा 2.90 हे. भूमि खरीदी गई है। स्पष्ट है कि अनावेदक कंपनी के द्वारा निक्षेपकों को धोखा देने के इरादे से सोचे समझे तरीके से कार्य किया गया है, फलस्वरूप कंपनी स्थापना द्वारा निक्षेप की गई राशि, निक्षेपकों को वापस किये जाने की संभावन क्षीण प्रतीत होती है। ऐसी स्थिति में यदि तत्कालीन कदम नहीं उठाये जाते हैं, तो निक्षेपकों को भारी क्षति होगी तथा निवेशकों के हितों का संरक्षण नही होने से व्यक्ति क्रमियों के मनोबल बढ़ने के साथ-साथ कंपनी के नाम पर धारित भूमि कोे और विक्रय/अंतरण होने की संभावना है। ऐसी स्थिति में अनावेदक कंपनी के विरूद्ध निक्षेपकों के हित संरक्षण को देखते हुये अधिनियम की धारा 7 (1) के तहत कार्यवाही करते हुए अचल संपत्ति की कुर्की किया जाना आवश्यक है।
उपरोक्त विवेचना उपरांत छ0ग0 निक्षेपकों के हितों का संरक्षण अधिनियम 2005 की धारा 7(1) अंतर्गत प्रदत्त शक्तियों /अधिकारों का प्रयोग करते हुये पुलिस अधिकारियों द्वारा प्रस्तुत प्रतिवेदन से सहमत होते हुये मै इस निश्कर्ष पर पहुंचता हूं, कि उपरोक्त वित्तीय कंपनी द्वारा निवेशको केा लुभावने योजनाए बताकर छलकपट कर निवेशको से ठगी की गई है तथा लोकधन का गबन किया गया है अतएव अनावेदक अनियमित वित्तीय कंपनी ग्रीन्डले प्रोजेक्ट एण्ड डेव्लपर्स लिमिटेड जैनब मेंशन द्ववीपतल अमरदीप टाकीज रोड बांस टाल रायपुर तथा कंपनी के डायरेक्टर अलोक कुमार भद्रा के स्वामित्व की जिला बालोद स्थित भूमि ग्राम सिकोसा प.ह.नं. 31तहसील गुण्डरदेही जिला बालोद स्थित भूमि खसरा नं. 201 रकबा 2.90 हे. में से आवेदको द्वारा न्यायालय में प्रस्तुत (विक्रय पंजीयन पत्र के आधार पर) रकबा 13077 वर्गफीट (0.12 हे.) विक्रय की जा चुकी भूमि को छोड़ कर शेष भूमि 2.78 हे. को कुर्की किये जाने हेतु अंतःकालीन आदेश पारित एवं उद्घोषित किया गया है।
Next Story
© All Rights Reserved @ 2022Janta Se Rishta