CG-DPR

कोपा कोर्स की मान्यता के लिए मार्गदर्शन लेने पत्र लिखेगा जिला स्वास्थ्य कार्यालय

jantaserishta.com
19 April 2022 4:50 AM GMT
कोपा कोर्स की मान्यता के लिए मार्गदर्शन लेने पत्र लिखेगा जिला स्वास्थ्य कार्यालय
x

कवर्धा: जल संरक्षण एवं जल संवर्धन के उद्देश्य से रेंगाखार-अचानकपुर एनीकेट डिसिल्टिंग गेट रिपेयर एवं मरम्मत कार्य से ग्राम पंचायत रेगाखार खुर्द एवं अचानकपुर के ग्रामीणों को फायदा मिलने लगा है। विभागीय योजनाओं के अभिसरण से हुए इस कार्य में महात्मा गांधी राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारंटी योजना, जिला खनिज न्यास निधि (डीएमएफ) व जल संसाधन विभाग के विभागीय मद से क्रियान्वित यह कार्य ग्रामीणों के लिए फायदेमंद साबित हो रहा है। जनपद पंचायत कवर्धा के ग्राम पंचायत रेगाखार खुर्द से बहने वाली सकरी नदी पर कार्य किया गया है। मूल रूप से यह कार्य सकरी नदी के बहाव क्षेत्र में जमा हुए गाद को निकालकर एनीकेट की साफ सफाई, रिपेयरिंग एवं मरम्मत जैसे आवश्यक कार्य हुए हैं। जिससे कि ग्रामीणों को निस्तारी वा सिंचाई सुविधा के लिए पानी की उपलब्धता हो सके।

उल्लेखनीय है कि कबीरधाम जिले की प्रमुख नदियों में से सकरी नदी का अपना एक अलग महत्व है जिसके बहाव क्षेत्र में बहुत से ग्राम पंचायत आते हैं। लेकिन अधिकांश स्थानों में नदी के बहाव क्षेत्र पर गाद भर जाने से जल का उपयोग नहीं हो पाता था । इन्हीं सब परेशानियों को देखते हुए एवं ग्रामीणों की मांग को ध्यान में रखते हुए विभागीय योजनाओं के अभिसरण से यह कार्य कराएं जा रहे है। 27 लाख 45 हजार रुपए की लागत से हो रहे इस कार्य के द्वारा खरीफ फसलों की सिंचाई के साथ-साथ जल संवर्धन एवं जल संरक्षण की दिशा में उल्लेखनीय कार्य हो रहा है।
गाद निकासी से हुआ जल संवर्धन जो निस्तारी एवं कृषि कार्य के लिए बना मददगारः ईई जल संसाधन विभागजल संसाधन विभाग के इस कार्य पर जानकारी देते हुए श्री दिनेश भगोरिया कार्यपालन अभियंता जल संसाधन विभाग संभाग कवर्धा ने बताया कि जिले के बहुत से अलग-अलग स्थानों में जल स्रोतों का उन्नायन कार्य लगातार जारी है । नारवा अभियान के तहत विभिन्न जल स्रोतों का उन्नयन कर ग्रामीणों को खेती किसानी के कार्य में सुविधाओं की वृद्धि करने के दृष्टिकोण से लगातार ऐसे कार्य चल रहे हैं। इसी क्रम में जनपद पंचायत कवर्धा के ग्राम पंचायत रेगाखार खुर्द में विभागीय योजनाओं के अभिसरण से कार्य हो रहा हैं। जिसमें 12 लाख 70 हजार रुपए जिला खनिज न्यास निधि से, 1 लाख 41 हजार रुपए जल संसाधन विभाग से एवं 13 लाख 34 हजार रुपए महात्मा गांधी राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारंटी योजना से स्वीकृत किया गया है। उन्होंने बताया कि यह कार्य वित्त वर्ष 2021-22 में स्वीकृत हुआ है तथा कार्य जुलाई माह से प्रारंभ हुआ था। इस कार्य में अभी तक 4165 मानव दिवस रोजगार का सृजन हुआ है जिसमें 7 लाख 11 हजार रुपए का मजदूरी भुगतान ग्रामीणों को मिला है।
कार्य पूरा होते ही पानी की उपलब्धता ग्रामीणों को कृषि कार्य में मददगार सिद्ध लगा है। जल संसाधन विभाग के माध्यम से सकरी नदी के बहाव क्षेत्र में यह कार्य कराया जा रहा है, जिसमें आसपास के दो से तीन गांव सीधे तौर पर लाभान्वित होंगे जिसमें लगभग दो हजार की ग्रामीण जनसंख्या प्रत्यक्ष रूप से लाभान्वित होगी। जल संवर्धन के साथ जल संरक्षण होगा तथा निस्तारी की समस्याओं का समाधान हुआ है तथा पशुओं के लिए पानी उपलब्ध हो रहा है। सकरी नदी में जल भराव होने से भूजल स्तर में वृद्धि होगी जिसके कारण आसपास के क्षेत्रों के हैंड पंप रिचार्ज होंगे। ग्रामीणों को रबी एवं खरीफ सीजन में कृषि कार्य हेतु पानी उपलब्ध होगा जो नारवा के उद्देश्य को पूरा करता है और ग्रामीणों को सुविधा संपन्न बनाते हुए आर्थिक रूप से उन्नत होने का मार्ग प्रशस्त करता है। साथ ही इस कार्य से महात्मा गांधी राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारंटी योजना का उद्देश्य पूरा होता है जिसमें रोजगार के साथ ऐसे परिसंपत्तियों का निर्माण करना है जिससे ग्रामीणों के जीवन यापन और उनके आर्थिक स्थिति में बदलाव लाने में सहायक हो रहा है।

Next Story
© All Rights Reserved @ 2022Janta Se Rishta