मेट्रो में गैस लीकेज की खबर ने दिल्‍ली की तमाम सुरक्षा एजेंसियों के बीच खलबली मचा दी

0

नई दिल्‍ली जनता से रिश्ता वेबडेस्क :    जवाहर लाल नेहरू स्‍टेडियम मेट्रो स्‍टेशन पर एक बैग से रासायनिक गैस के रिसाव की खबर ने दिल्‍ली की तमाम सुरक्षा एजेंसियों के बीच खलबली मचा दी. आनन फानन मेट्रो स्‍टेशन पर विभिन्नि एजेंसियों के कमांडो और जवानों के आने का सिलसिला शुरू हो गया. देखते ही देखते मेट्रो स्‍टेशन पर 400 से अधिक कमांडो और जवान एकत्रित हो गए. सभी अपनी पूर्व निर्धारित भूमिका के अनुसार कार्रवाई में लग गए. पूरी कार्रवाई को खत्‍म करने में चार घंटे का समय लग गया.   दरअसल, यह पूरी कवायद मेट्रो नेटवर्क में आपात परिस्थितियों से निपटने के लिए अब तक की गई तैयारियों का जायजा लेने के लिए किया गया था. अपनी तैयारियों और तत्‍परता की परीक्षा देने के लिए सीआईएसएफ, एनएसजी, एनडीआरएफ, दिल्‍ली फायर सर्विस, यातायात पुलिस, दिल्‍ली पुलिस के 400 से ज्‍यादा जवानों ने हिस्‍सा लिया. विभिन्‍न सुरक्षा एजेंसियों के इन जवानों की परीक्षा करीब चार घंटे तक चली. जिसमें सभी का प्रदर्शन संतोषजनक रहा.

पूरी कवायद से जुड़े वरिष्‍ठ अधिकारी के अनुसार, प्रक्रिया के तहत सीआईएसएफ ने अपने सुरक्षा प्रोटोकॉल का पालन करते हुए मेट्रो स्‍टेशन में मौजूद सभी यात्रियों को डीएमआरसी कर्मचारियों की मदद से निकाला. मौके के हालात पर नियंऋण बनाए रखने के लिए क्यूआरटी को तैनात किया गया. इसी बीच, एनएसजी, डीएमआरपी, डीडीएमए, सिविल डिफेंस और दिल्ली पुलिस की टीमें, डॉग स्क्वाड, बीडीएस टीम, फायर सर्विस, यातायात पुलिस, मेडिकल सर्विसेज और स्थानीय पुलिस की अन्य टीम भी मौके पर पहुंच गईं.   सीआईएसएफ के सहायक महानिरीक्षक हेमेंद्र सिंह ने बताया कि इस ड्रिल के दौरान विभिन्न एजेंसियों के लगभग 500 कर्मियों ने हिस्‍सा लिया. जिसमें सीआईएसएफ के 124, एनएसजी के 168, एनडीआरएफ के 40 और दिल्ली मेट्रो और स्थानीय पुलिस के 168 जवान शामिल थे. इस ड्रिल के दौरान सीआईएसएफ के एडिशन डारेक्‍टर जनरल एके पटेरिया, एनएसजी के ब्रिगेडियर गौतम गांगुली, सीआईएसएफ के आईजी सुधीर कुमार, दिल्‍ली मेट्रो के डीआईजी रघुबीर लाल सहित अन्‍य वरिष्‍ठ अधिकारी मौजूद थे.